18.2 C
Dehradun
Saturday, October 23, 2021
Homeहमारा उत्तराखण्डदेहरादूनएम्स ऋषिकेश में हिंदी पखवाड़ा: राष्ट्रभाषा को बढ़ावा देने के लिए हिंदी...

एम्स ऋषिकेश में हिंदी पखवाड़ा: राष्ट्रभाषा को बढ़ावा देने के लिए हिंदी भाषा में करें कार्य

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, एम्स ऋषिकेश में आयोजित हिंदी पखवाड़े के समापन अवसर पर स्वरचित काव्य पाठ का आयोजन किया गया। इस दौरान मुख्य अतिथि संकायाध्यक्ष अकादमिक द्वारा विभिन्न प्रतियोगिताओं में अव्वल आए प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया और हिंदी भाषा को बढ़ावा देने की बात कही।

एम्स ऋषिकेश के राजभाषा विभाग की ओर से आयोजित हिंदी पखवाड़े का विधिवत समापन हो गया। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में काव्य पाठ प्रतियोगिता के दौरान विभिन्न रचनाकारों ने स्वरचित काव्य रचनाएं प्रस्तुत की।

कार्यक्रम में हिंदी पखवाड़े के दौरान आयोजित हुई विभिन्न प्रतियोगिताओं में अव्वल आने वाले प्रतिभागियों को मुख्य अतिथि संकायाध्यक्ष अकादमिक प्रोफेसर मनोज गुप्ता द्वारा संस्थान की ओर से नकद पुरस्कार व प्रशस्तिपत्र भेंटकर सम्मानित किया गया।

गौरतलब है कि हिंदी भाषा को बढ़ावा देने के उद्देश्य से प्रति वर्ष देशभर में सितंबर माह के दूसरे पखवाड़े को हिंदी पखवाड़ा के रूप में मनाया जाता है। एम्स ऋषिकेश में इस अवसर पर अलग-अलग कार्य दिवस पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए। जिनमें हिंदी निबंध प्रतियोगिता, टंकण प्रतियोगिता, वाद-विवाद प्रतियोगिता, स्वरचित काव्य पाठ प्रतियोगिता आदि हिंदी प्रतियोगिताएं शामिल हैं।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि संकायाध्यक्ष अकादमिक प्रोफेसर मनोज गुप्ता ने कहा कि हिंदी भाषा विश्व की सबसे सरल भाषा है। यह भाषा हम सभी को आपस में जोड़ना भी सिखाती है। उन्होंने कहा कि संस्थान के समस्त कर्मचारियों को चाहिए कि वह अपनी राष्ट्रभाषा को बढ़ावा देने के लिए हिंदी भाषा में कार्य करें और व्यवहार व आम बोलचाल में भी ​हिंदी का इस्तेमाल करें।

चिकित्सा अधीक्षक प्रोफेसर संजीव मित्तल ने सभी लोगों से आह्वान किया कि वह राष्ट्रभाषा हिंदी से प्रेम करें और इसे आचार व्यवहार में अधिकाधिक अपनाने का संकल्प लें, उन्होंने कहा कि अपनी भाषा के प्रति यह प्रतिबद्धता हिंदी को नए सोपान पर पहुंचाने में काफी हद तक सहायक होगी।

संस्थान के वरिष्ठ राजभाषा अधिकारी शशिकांत ने कहा कि हिंदी को प्रोत्साहन देने के लिए भविष्य में विभिन्न हिंदी कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है, इसलिए इसका सम्मान तभी होगा, जब हम अपने दैनिक जीवन में इस भाषा को अधिक से अधिक बढ़ावा देंगे। उन्होंने हिंदी को सर्वमान्य भाषा बताया। कार्यक्रम में काव्य पाठ प्रस्तुत करने वाले 10 विजेता प्रतिभागियों सहित विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजयी प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया।

इस अवसर पर संस्थान के कुल सचिव राजीव चौधरी, प्रो. प्रतिमा गुप्ता, डा. रश्मि मल्होत्रा, प्राचार्य कॉलेज ऑफ नर्सिंग जैवियर वैल्सियाल, जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल, संदीप सिंह, राजभाषा अधिकारी नीरा तिवाड़ी आदि मौजूद थे।

RELATED ARTICLES

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments

error: Content is protected !!