34.2 C
Dehradun
Tuesday, June 18, 2024
Homeहमारा उत्तराखण्डएसटीएफ का छापा, प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना को लेकर धोखाधड़ी करने वाले...

एसटीएफ का छापा, प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना को लेकर धोखाधड़ी करने वाले 03 ठगों को किया गिरफ्तार

🔸 प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना के तहत लोन देने का लोगो को दे रहे थे झांसा ।।

🔸 गिरफ्तार किए गए अभियुक्तों से एक लैपटॉप, 13 मोबाइल फोन, 06 पास बुक, 04 सिम कार्ड इत्यादि समान बरामद।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसटीएफ आयुष अग्रवाल द्वारा बताया गया कि दिनांक: 4–2–2023 को एसटीएफ को सूचना मिली कि सहस्रधारा रोड में अमित बिहार कॉलोनी के एक मकान में कुछ युवक व युवतियां प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना के बारे में लोगों को फोन पर योजना का लाभ देकर लोन लेने के लिए कह रहे हैं तथा उनसे इंश्योरेंस के तौर पर ₹2000 एवं रिफंडेबल के रूप में आरटीजीएस के तहत 5000 से लेकर ₹10,000 तक की मांग कर रहे हैं जिसके लिए क्यूआर कोड को व्हाट्सएप के माध्यम से भेज कर लोगों से धोखाधड़ी कर रहे हैं।

सूचना की तस्दीक करने के बाद एसटीएफ की टीम द्वारा उक्त पते पर छापा मारकर मौके से तीन व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है जिनके कब्जे से एक लैपटॉप 13 मोबाइल फोन, 6 पासबुक, 4 सिम कार्ड व अन्य सामान बरामद किया गया है।

गिरफ्तार किए गए अभियुक्तों के नाम

1– निशात शर्मा पुत्र विनोद शर्मा निवासी एच 111 कुंवर सिंह नगर, नागलोई, दिल्ली
2– टुनटुन कुमार कुमार पुत्र रविंद्र राम निवासी ग्राम बिरजूमिल्की थाना हरनौत नालंदा बिहार।
3– मेघा शर्मा पुत्री राहुल शर्मा निवासी सुल्तानपुरी नागलोई दिल्ली।

अपराध का तरीका – सबसे पहले अभियुक्तगणो द्वारा फेसबुक में प्रधानमंत्री मुद्रा योजना तथा मुद्रा लोन के बारे में विज्ञापन को अपलोड किया जाता फिर फर्जी नंबर से लोगों को कॉल की जाती थी। जिन लोगों को लोन की जरूरत होती वे लोग इन नंबरों पर बात करते थे और अभियुक्तगण लोन लेने के इच्छुक व्यक्ति से उसका आधार कार्ड, बैंक डिटेल और छोटी मोटी संपत्ति की जानकारी मांगते थे ।

जब लोगों को यकीन हो जाता था कि उन्हें प्रधानमंत्री मुद्रा योजना से लोन मिल जाएगा तो फिर अभियुक्तगणों द्वारा उनसे प्रोसेसिंग फीस और इंश्योरेंस के नाम पर पहले ₹2000 लिए जाते फिर उन्हें मैसेज किया जाता कि आपका लोन स्वीकृत हो चुका है, लोन की किस्त की देने की एवज में उन लोगों से 5200 रुपए से लेकर 10200 रुपए तक रिफंडेबल पेमेंट बताकर फर्जी मोबाईल नंबरों के व्हाट्सएप से क्यूआर कोड भेज कर धोखाधड़ी की जाती थी।

फिर लोन लेने वाले को बताते थे कि रिफंडेबल पैसे 45 दिन बाद वापस हो जाएंगे । फिर कुछ समय बाद अपने नंबर बदल देते थे। धोखाधड़ी से प्राप्त की जाने वाली धनराशि के लिए इनके द्वारा कुछ गरीब लोगों को पैसे का लालच देकर उनसे फर्जी खाते खुलवाए गए तथा उन खातों की एटीएम और पासबुक अपने पास रख लिया गया। जब उन खातों में किसी व्यक्ति के साथ इनके द्वारा धोखाधड़ी कर रकम ली जाती थी तो ये उन खातों को बंद कर देते थे।

इनके द्वारा जरूरतमंद लोगों से 5000 रुपए से लेकर 10000 रुपए में खाते खुलवाए उन खातों के माध्यम से कई लोगों से धोखाधड़ी की गई है जिसकी आगे जांच की जा रही है। संपूर्ण कार्यवाही एव अभियुक्तों की गिरफ्तारी एसटीएफ के पुलिस उपाधीक्षक नरेंद्र पंत के नेतृत्व में निरीक्षक प्रदीप राणा की टीम के द्वारा की गई है।

RELATED ARTICLES

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments

error: Content is protected !!