24.2 C
Dehradun
Sunday, May 29, 2022
HomeविदेशRussia Ukraine War: परमाणु संयंत्र पर कब्जे की कोशिश में रूस, यूरोप...

Russia Ukraine War: परमाणु संयंत्र पर कब्जे की कोशिश में रूस, यूरोप से की मिसाइल डिफेंस सिस्टम पहुंचाने की मांग

राष्ट्रपति पुतिन द्वारा सैन्य कार्रवाई के आदेश के बाद रूस ने यूक्रेन पर ताबड़तोड़ मिसाइल हमले शुरू कर दिए हैं। इस हमले में कम से कम 50 लोगों की मौत हुई है। इनमें 10 आम नागरिकों के मारे जाने की बात सामने आई है। यूक्रेन ने भी रूस के 50 सैनिक मारने की बात कही है।

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडाइमिर जेलेंस्की ने इस बीच रूस के साथ राजनयिक संबंध तोड़ने का एलान किया। इस बीच रूस-यूक्रेन युद्ध को कैसे रोका जाए, इसे लेकर यूरोपीय संघ के उच्चायुक्त ने भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर से बात की। फिलहाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यूक्रेन संकट को लेकर उच्चस्तरीय बैठक कर रहे हैं। बताया गया है कि आज रात तक पीएम मोदी रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से बात कर सकते हैं।

विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने यूक्रेन संकट पर कैबिनेट बैठक के बाद कहा, “यूक्रेन में स्थिति से निपटने के लिए कई कदम उठाए गए हैं। हमने करीब एक महीने पहले यूक्रेन में भारतीय नागरिकों का पंजीकरण शुरू किया था। ऑनलाइन पंजीकरण के आधार पर हमने पाया कि 20,000 भारतीय नागरिक वहां थे।” उन्होंने बताया कि पिछले कुछ दिनों में 4000 भारतीय नागरिक यूक्रेन से भारत लौट चुके हैं। दिल्ली में MEA कंट्रोल रूम को 980 कॉल और 850 ईमेल मिले हैं।”

यूक्रेन संकट पर थोड़ी देर में व्लादिमीर पुतिन से बात करेंगे मोदी

भारत के विदेश सचिव ने गुरुवार को यूक्रेन संकट को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा, “आपने रूस और यूक्रेन संकट को देखा है। इसे लेकर आज कैबिनेट की बैठक हुई है। हमने इस स्थिति पर नजर रखी है। हमारे लिए भारतीय नागरिकों की सुरक्षा प्राथमिकता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से थोड़ी देर में बातचीत करेंगे। उन्होंने कहा कि भारतीयों को निकालने के लिए यूक्रेन के पड़ोसी देशों से भी बात की गई है।”

यूक्रेन: कीव के करीब पहुंची रूसी सेना, कर्फ्यू लागू

रूसी सेना लगातार यूक्रेनी सैनिकों पर हमले करते हुए राजधानी कीव के करीब पहुंच गई है। इस बीच कीव में सरकार ने कर्फ्यू का एलान किया है। राष्ट्रपति वोलोडाइमिर जेलेंस्की ने कहा कि हमें काफी नुकसान उठाने पड़े हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि रूस शेर्नोबिल स्थित परमाणु संयंत्र को भी कब्जाना चाहता है। यह वही इलाका है, जहां 1986 में परमाणु आपदा आई थी और पूरे इलाके में रेडिएशन फैल गया था। तब से लेकर अब तक यूक्रेन ने इस जगह पर कोई निर्माण नहीं किया है।

अमेरिका: रात 11 बजे राष्ट्रपति बाइडन का संबोधन

रूस की ओर से यूक्रेन पर किए गए हमले को लेकर अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन आज रात 11 बजे राष्ट्र के नाम संबोधन देंगे। वे इसमें रूस पर की जाने वाली कार्रवाई का ब्योरा देंगे। इसके अलावा वे प्रतिबंधों को लेकर भी नए एलान कर सकते हैं।

महाराष्ट्र: यूक्रेन में फंसे छात्रों के माता-पिता ने जताई चिंता

महाराष्ट्र: रूस-यूक्रेन विवाद के कारण कई भारतीय छात्र यूक्रेन में फंस गए हैं, जिसे लेकर उनके माता-पिता चिंतित हैं। छात्र की मां ने बताया, “आज सुबह मेरे बेटे की फ्लाइट थी लेकिन कैंसल हो गई। मोदी सरकार से मेरी गुहार है कि यूक्रेन में मौजूद सभी भारतीय बच्चों को भारत लेकर आएं।”

यूक्रेन के राष्ट्रपति का दावा- परमाणु संयंत्र पर कब्जे की कोशिश में रूस

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडाइमिर जेलेंस्की ने दावा किया है कि रूस अब उसके शेर्नोबिल स्थित बंद पड़े परमाणु संयंत्र पर कब्जा करने की कोशिश में है। जेलेंस्की ने कहा कि इस बारे में उन्होंने स्वीडन के प्रधानमंत्री को बताया है। उन्होंने कहा कि परमाणु संयंत्र में 1986 में जो तबाही हुई थी, यूक्रेन उसे कभी दोहराने नहीं देगा। उन्होंने कहा कि यह पूरे यूरोप के खिलाफ युद्ध का एलान है।

कीव के एक स्कूल में इकट्ठा हुए भारतीय छात्र

यूक्रेन में भारतीय दूतावास ने कीव में दूतावास के पास एक स्कूल में 200 से अधिक भारतीय छात्रों को इकट्ठा किया है।

कीव के एयरबेस तक पहुंची रूसी सेना

यूक्रेन की सेना ने कहा है कि रूसी सैनिक अब राजधानी कीव के एयरबेस तक पहुंच गई है। फिलहाल यूक्रेनी सैनिक इसे बचाने की कोशिश में हैं। हालांकि, यूक्रेनी के पास सैनिकों की संख्या कम होने की वजह से उसके एयरबेस के ज्यादा देर तक सुरक्षित रहने की उम्मीद भी काफी कम है।

पुतिन से आज रात में बात कर सकते हैं पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज रात रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से बात कर सकते हैं। न्यूज एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से यह दावा किया है। गौरतलब है कि भारत में यूक्रेन के राजदूत ने आज सुबह प्रेस कॉन्फ्रेंस में पीएम मोदी से गुहार लगाई थी कि वे युद्ध रोकने के लिए पुतिन से बात करें।

यूक्रेन संकट पर पीएम मोदी की बैठक शुरू

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूस-यूक्रेन संकट के बीच आपात बैठक बुलाई है। इस बैठक में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के अलावा विदेश मंत्री एस जयशंकर और एनएसए अजीत डोभाल शामिल हुे हैं। इसके अलावा गृह मंत्री अमित शाह भी बैठक का हिस्सा बने हैं। माना जा रहा है कि पीएम इस चर्चा में रूस-यूक्रेन के बीच तनाव कम करने के कदमों पर बात कर सकते हैं। इसके अलावा वे यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को निकालने के तरीकों पर भी चर्चा करेंगे।

फ्रांस बोला- यूक्रेन पर हमला यूरोप के लिए टर्निंग पॉइंट

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने यूक्रेन संकट को लेकर देश को संबोधित किया है। उन्होंने कहा कि कि यूक्रेन पर रूस का हमला यूरोपीय इतिहास में ‘टर्निंग पॉइंट’ है। उन्होंने कहा कि रूस के युद्ध की इस हरकत के लिए वह बिना कोई ढील दिए कार्रवाई करेगा।

राजधानी कीव की तरफ बढ़ रहे रूसी सैनिक, मिलिट्री प्लेन क्रैश में 14 जवानों की मौत

यूक्रेन पर किए गए रूस के हमले से जनजीवन का नुकसान जारी है। यूक्रेन के सीमा बल ने कहा है कि रूसी सेना लगातार आगे बढ़ रही है और कीव तक पहुंचने वाली है। इस बीच कीव के करीब एक मिलिट्री प्लेन क्रैश में यूक्रेन के 14 जवानों की मौत हो गई।

बोरिस जॉनसन ने पुतिन को बताया ‘तानाशाह’

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने यूक्रेन पर हमले को लेकर रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को चेतावनी दी है। उन्होंने पुतिन को तानाशाह करार दिया है और हमले को घिनौना बताया है। ब्रिटेन के पीएम ने कहा कि पश्चिमी देश जल्द ही रूस के खिलाफ बड़े प्रतिबंधों का एलान करने वाले हैं, क्योंकि हम इस संकट से मुंह नहीं फेर सकते।

यूक्रेन से कतर पहुंचने वालों के लिए द्विपक्षीय हवाई सेवा शुरू होगी

यूक्रेन में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए कतर में दूतावास भी सक्रिय हो गया है। ताजा बयान में कहा गया है कि भारत सरकार और नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने भारत-कतर द्विपक्षीय हवाई व्यवस्था के तहत यूक्रेन से यात्रा करने वाले यात्रियों को पारगमन से यात्रा करने की अनुमति दी है।

यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद भारतीय दूतावास ने एक दिन के अंदर ही अपने नागरिकों के लिए तीसरी एडवायजरी जारी की है। इसमें कहा गया है कि वे सभी नागरिक जिन्हें अपने क्षेत्रों में बम गिरने से जुड़े साइरन सुनाई दे रहे हैं, वे सभी लोग बंकरों में शरण लें। सभी नागरिकों को शांति आने तक बॉम्ब शेल्टर में छिपने के लिए कहा गया है।
RELATED ARTICLES

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments

error: Content is protected !!