36.7 C
Dehradun
Saturday, May 28, 2022
Homeहमारा उत्तराखण्डPushkar Singh Dhami 2.0 : पुष्कर सिंह धामी को मिली दोबारा उत्तराखंड...

Pushkar Singh Dhami 2.0 : पुष्कर सिंह धामी को मिली दोबारा उत्तराखंड की कमान

देहरादून। पुष्कर सिंह धामी ही उत्त्तराखण्ड के नये मुख्यमंत्री होंगे। भाजपा विधानमंडल दल की आज हुई बैठक में नये सीएम के नाम पर मुहर लगी। केंद्रीय पर्यवेक्षक राजनाथ सिंह व मीनाक्षी लेखी की मौजूदगी में सांय 5 बजे भाजपा विधानमंडल दल की बैठक शुरू हुई। बैठक में पूर्व सीएम, सांसद, प्रदेश प्रभारी दुष्यंत गौतम भी मौजूद रहे।

घोषणा होते ही प्रदेश भाजपा मुख्यालय में नये सीएम को पार्टी नेताओं ने बधाई देते हुए फूल माला से लाद दिया। पार्टी मुख्यालय में नये सीएम के नाम को लेकर जिंदाबाद के नारे लगने लगे। अबीर गुलाल, आतिशबाजी व पटाखे फोड़ खुशी का इजहार किया गया।हालांकि, सीएम पद के अन्य दावेदार मायूस नजर आए।

भाजपा विधानमंडल दल की बैठक में प्रह्लाद जोशी, सांसद व केंद्रीय मंत्री अजय भट्ट, नरेश बंसल, राजलक्ष्मी, तीरथ रावत, अनिल बलूनी,निशंक , विजय बहुगुणा मौजूद रहे।

पर्यवेक्षक राजनाथ सिंह व मीनाक्षी लेखी ने भाजपा कार्यालय जाने से पहले स्थानीय होटल में वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक की। इस बैठक में कार्यवाहक सीएम पुष्कर सिंह धामी, निशंक, सतपाल महाराज, अजय भट्ट समेत वरिष्ठ नेता मौजूद थे।

गौरतलब है कि दस मार्च को 70 सीटों पर हुई मतगणना में भाजपा ने 47 सीट जीतकर दोबारा सत्ता हासिल कर इतिहास रचा। कांग्रेस ने 19,बसपा ने दो व दो निर्दलीय चुनाव जीते।

दस मार्च के बाद से ही नये सीएम को लेकर देहरादून से लेकर दिल्ली तक दौड़ शुरू हो गई थी। सीएम पुष्कर सिंह धामी के चुनाव हार जाने से भाजपा नेतृत्व भी नये नाम पर विचार करने लगा था। इस मौके पर नये सीएम के नाम की घोषणा से पूर्व विधानसभा चुनाव में जीत के लिए पार्टी नेतृत्व का आभार जताया गया।

धामी का नाम रहा सबसे आगे 

भाजपा विधायक मंडल दल की बैठक में सीएम पुष्कर सिंह धामी का नाम सबसे आगे रहा। उन्हें विधायक दल का नेता चुना गया। इसी के साथ उत्तराखंड को 12 वें मुख्यमंत्री के रूप में पुष्कर सिंह धामी का चेहरा मिल गया है। दस मार्च को आए चुनाव परिणामों के बाद उत्तराखंड में भाजपा बहुमत का जादुई आंकड़ा छूने में कामयाब रही, लेकिन मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी अपनी सीट नहीं बचा पाए थे।
 
हालांकि चुनाव हारने के बावजूद पार्टी आलाकमान ने पुष्कर सिंह धामी पर एक बार फिर भरोसा दिखाया है। उन्हें कमान सौंपे जाने का फैसला लिया है। धामी के हाथ विधानसभा चुनाव में निराशा लगी थी। खटीमा विधानसभा सीट से धामी को करारी हार का सामना करना पड़ा। उन्हें कांग्रेस के भुवन कापड़ी ने छह हजार से ज्यादा वोटों से हराया। उत्तराखंड में भाजपा की बहुमत के साथ जीत हुई। प्रदेश के इतिहास में पहली बार ऐसा होने जा रहा है कि कोई पार्टी लगातार दूसरी बार सरकार बनाएगी।
 

20 साल में प्रदेश को मिले 11 मुख्यमंत्री

उत्तराखंड के 20 साल के इस सफर में प्रदेश को 11 मुख्यमंत्री मिले हैं। भाजपा ने सात मुख्यमंत्री दिए हैं, तो कांग्रेस पार्टी ने प्रदेश को तीन मुख्यमंत्री दिए हैं। हालांकि, भाजपा शासन के पांच साल के कार्यकाल में पहली बार उत्तराखंड में तीन-तीन मुख्यमंत्री मिले हैं। सबसे खास बात यह है कि सभी मुख्यमंत्रियों में से सिर्फ कांग्रेस के पूर्व सीएम नारायण दत्त तिवारी ही अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा कर पाए थे।
RELATED ARTICLES

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments

error: Content is protected !!