15.6 C
Dehradun
Monday, November 29, 2021
Homeहमारा उत्तराखण्डनैनीतालएम्स ऋषिकेश: "उड़ान" आउटरीच टेली हेल्थ कंसल्टेशन मॉडल के अंतर्गत नैनीताल में...

एम्स ऋषिकेश: “उड़ान” आउटरीच टेली हेल्थ कंसल्टेशन मॉडल के अंतर्गत नैनीताल में कार्यक्रम की शुरुआत

एम्स ऋषिकेश के सोशल आउटरीच सेल द्वारा “उड़ान” आउटरीच टेली हेल्थ कंसल्टेशन मॉडल के अंतर्गत कुमाऊं मंडल के नैनीताल जिले में कार्यक्रम की शुरुआत की गई। जिसके तहत जनपद नैनीताल के रामनगर विकासखंड के दूरस्थ गांव सुंदरखाल में ग्रामीणों स्वास्थ्य संबंधी परामर्श के साथ- साथ उपचार मुहैया कराया गया।

गौरतलब है कि अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, एम्स ऋषिकेश के सोशल आउटरीच सेल एवं आईआईटी रुड़की के संयुक्त तत्वावधान में “उड़ान” एक आउटरीच टेली हेल्थ कंसल्टेशन तैयार गया है, जिसका बीती 16 अक्टूबर- 2021 को उद्घाटन किया गया था।

आउटरीन टेली हेल्थ कंसल्टेशन के माध्यम से कुमाऊं मंडल स्थित नैनीताल जिले के रामनगर विकासखंड के दूरस्थ गांव सुंदरखाल में स्वास्थ्य कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें एम्स ऋषिकेश के सोशल आउटरीच सेल के नोडल अधिकारी डॉ. संतोष कुमार ने बताया कि उड़ान टेली हेल्थ कंसल्टेशन कार्यक्रम के माध्यम से दूरदराज और ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को निशुल्क स्वास्थ्य संबंधी परामर्श के साथ ही इलाज मुहैया कराया जा रहा है, जिसका उद्देश्य स्वास्थ्य सेवाओं से विहीन दूरस्थ क्षेत्रों में लोगों को सुगमता से उपचार उपलब्ध कराना है।

जिसके तहत एम्स, ऋषिकेश स्वास्थ्य सेवाएं ऑनलाइन माध्यम से प्रदान कर रहा है। उन्होंने बताया कि अब समय आ गया है कि हमें नई स्वास्थ्य टेली मेडिसिन की ओर बढ़ना चाहिए। आयोजित कार्यक्रम के सदर्भ में डॉ. संतोष कुमार ने बताया कि कार्यक्रम में 30 से अधिक लोगों ने सहभागिता की।

जिसमें गांव के कई लोग बी.पी. ,हाइपरटेंशन,मानसिक रोग, तनाव,शरीर दर्द आदि रोगों से ग्रसित पाए गए। सभी मरीजों को निशुल्क इलाज के साथ- साथ परामर्श दिया गया। एम्स ऋषिकेश के सोशल आउटरीच सेल द्वारा आयोजित कार्यक्रम में क्षेत्र के ग्रामीणों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया और साथ ही क्षेत्रवासियों द्वारा एम्स ऋषिकेश के इस कार्यक्रम की सराहना की गई।

कार्यक्रम के दौरान वत्सल फाउंडेशन की प्रतिनिधि श्वेता मशिवाल, एम्स आउटरीच सेल के अमनदीप नेगी, स्वाति, पंकज आदि मौजूद थे। इंसेट प्लान के तहत उड़ान कार्यक्रम के तहत उत्तराखंड राज्य में पांच से छह गांवों का चयन किया जाएगा। जिसमें टेलीकंसल्टेशन के माध्यम से क्षेत्र में पाई जाने वाली खास बीमारियों पर वैज्ञानिक दृष्टि से चर्चा की जाएगी और उसके कारण, बचाव व निवारण किया जाएगा।

इस अनुसंधान टीम में एम्स ऋषिकेश के मधुमेह रोग विशेषज्ञ डा. रवि कांत, स्त्री रोग विशेषज्ञ डा. अनुपमा बहादुर, हड्डी रोग विशेषज्ञ डा. आरबी कालिया, स्वांस रोग विशेषज्ञ डा. गिरीश सिंधवानी, फेमिली फिजिशियन डा. संतोष कुमार, बालरोग विशेषज्ञ डा. विनोद कुमार आदि शामिल हैं।

RELATED ARTICLES

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments

error: Content is protected !!