26.6 C
Dehradun
Friday, July 12, 2024
Homeहमारा उत्तराखण्डएसटीएफ की चुंगल में आया इनकम टैक्स रिफण्ड करने के नाम पर...

एसटीएफ की चुंगल में आया इनकम टैक्स रिफण्ड करने के नाम पर धोखाधडी करने वाला नाईजीरियन मास्टरमाइन्ड

🔸 एसटीएफ की गिरप्त में आये नाईजीरियन अभियुक्त द्वारा काशीपुर के एक व्यक्ति से इनकम टैक्स रिफण्ड को लेकर खाते का दुरुपयोग कर साढ़े नौ लाख रूपये की धोखाधड़ी

🔸 साईबर अपराधियों पर एसटीएफ लगातार कस रही है, नकेल

मुख्यमंत्री उत्तराखण्ड के निर्देशो के क्रम में प्रदेश के निवासियों को साइबर अपराधियों द्वारा जनता से ठगी करने वालो पर सख्ती कार्यवाही कर पुलिस महानिदेशक द्वारा राज्य के इनामी अपराधियों के विरुद्ध चलाए जा रहे अभियान के तहत वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, एसटीएफ को प्रभावी कार्यवाही हेतु दिशा निर्देश दिये गये है।

वरिश्ठ पुलिस अधीक्षक एसटीएफ आयुष अग्रवाल द्वारा जानकारी देते हुये बताया कि राजीव ढेंगे पुत्र काशीरामजी ढेंगे निवासी फोस-2, बाजपुर रोड, डी0 5, प्रकाश सिटि काशीपुर, उधमसिंहनगर ने थाना आईटीआई उद्यमसिंहनगर ने शिकायत की गयी थी कि उनसे किसी अज्ञात व्यक्ति ने ईमेल के माध्यम से सम्पर्क कर स्वंय को इनकम टैक्स डिपार्टमेन्ट से होना बताते हुये, उन्हें इनकम टैक्स रिर्टन भरने व इनकम टैक्स रिफन्ड करने सम्बन्धी मेल भेजी गई फ़िर उस व्यक्ति द्वारा शिकायतकर्ता से सम्पर्क कर उनके खाते की जानकारी प्राप्त की गयी फिर उनके बैंक खाते का दुरुपयोग करते हुये उनके खाते पर आँनलाइन 25,00,000- रुपए का लोन प्राप्त कर लिया और उस प्राप्त लोन की 25 लाख रूपये की धनराशि में से 9,50,000 रुपए की धनराशि धोखाधडी से उस व्यक्ति द्वारा निकाल दी गयी। जिस पर थाना आई0टी0एक्ट पर मु0अ0स0 228/22 धारा 420 ,120बी भादवि व 66 आईटी एक्ट का अभियोग पंजीकृत किया गया। प्रकरण की गम्भीरता को देखते हुये श्रीमान पुलिस महानिदेशक महोदय के आदेशानुसार उक्त अभियोग की विवेचना तत्काल प्रभाव से एसटीएफ के थाना साइबर क्राईम देहरादून को स्थानान्तरित की गयी


उपरोक्त अभियोग की विवेचना एसटीएफ को स्थानान्तरित होने पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एस0टी0एफ0 द्वारा एक पुलिस टीम का गठन किया गया तथा एसटीएफ की सीसीपीएस यूनिट द्वारा तकनीकी दक्षता से धोखाधड़ी करने वाले गिरोह के सदस्यों की पहचान की गयी। जिसमें नाईजीरियन अपराधी की भूमिका प्रमुख तौर पर प्रकाश में आयी यह भी प्रकाश में आया कि इस गिरोह को एक नाईजीरिन ही संचालित करता है, जिस कारण सेे उसकी गिरप्तारी हेतु विगत एक माह से देश के विभिन्न राज्यो में इन अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु लगातार दबिश दी जा रही थी तथा अभियुक्तो के सम्बन्ध में सूचना संकलित की जा रही थी।

जानकारी प्राप्त हुयी कि जो इस घटना में हमारा मोस्ट वाण्टेड हैदराबाद के एक केश में विगत कुछ दिन से सैन्ट्रल जेल हैदराबाद में निरुद्व है। जिस पर विवेचक द्वारा मुकदमा उपरोक्त में अभियुक्त की संलिप्तता के आधार अभियुक्त के विरुद्व वारंट बी प्राप्त किया गया तथा अभियुक्त को सैन्ट्रल जेल हैदराबाद से रिमाण्ड प्राप्त देहरादून लाया जा रहा है इस अभियोग में नाईजीरियन के अन्य सदस्यों की तलाष एसटीएफ द्वारा की जा रही है।

आपराधिक इतिहासः-

  1. Cr.No. 322/2020 U/s 417,419,420 IPC & 66 (C&D) IT Act PS. CyberCrimes, Rachakonda
  2. Cr.No. 921/2020 U/s 66 (D) IT Act PS. CyberCrimes CCSDD Hyderabad
  3. Cr.No. 873/2019 U/s 66 (D) IT Act PS. CyberCrimes CCSDD Hyderabad
  4. Cr.No. 692/2019 U/s 66 (D) IT Act PS. CyberCrimes CCSDD Hyderabad
  5. Cr.No. 28/2022 U/s 419,420,34 IPC & 66 (D) IT Act PS. Cyber Crime, North GOA
  6. Cr.No. 228/2022 U/s 420,120b IPC & 66 IT Act PS. ITI Udhamsinghnagar Uttarakhand

अभियुक्त का नाम –
Ifeanyi Collins chickwendu S/o Chickwendu R/o Cheluvaraj nilaya 1st 9th cross, ranganathan temple road, veerenahalli avalahalli police station Bangaluru Karnataka मूल निवासी Abia Negeria. Age 39 Yrs

पुलिस टीम
1- उ0नि0 राजीव सेमवाल
2- अ0उ0नि0 सुरेश कुमार
3- का0 नितिन रमोला

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक स्पेशल टॉस्क फोर्स उत्तराखण्ड श्री आयुष अग्रवाल महोदय द्वारा जनता से अपील की है कि वे किसी भी प्रकार के लोक लुभावने अवसरो/फर्जी साइट/धनराशि दोगुना करने वाले अंनजान अवसरो के प्रलोभन में न आयें । किसी भी आँनलाईन ट्रेडिग साइट व लॉटरी एवं ईनाम जीतने तथा अच्छे रिटर्न के लालच में आकर धनराशि देने तथा अपनी व्यक्तिगत जानकारी व महत्वपूर्ण डाटा शेयर करने से बचना चाहिये। किसी भी प्रकार का अनजान साइट की पूर्ण जानकारी व स्थानीय बैंक, सम्बन्धित कम्पनी आदि से भलींभांति इसकी जांच पड़ताल अवश्य करा लें । कोई भी शक होने पर तत्काल निकटतम पुलिस स्टेशन या साइबर क्राईम पुलिस स्टेशन को सम्पर्क करें । कोई भी वित्तीय साइबर धोखाधड़ी शक होने पर तत्काल निकटतम पुलिस स्टेशन या साइबर हेल्पलाईन 1930 या साइबर क्राईम पुलिस स्टेशन को सम्पर्क करें ।

RELATED ARTICLES

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments

error: Content is protected !!