6 C
New York
Tuesday, June 22, 2021
Homeहमारा उत्तराखण्डविश्व पर्यावरण दिवस: प्रकृति में निहित प्राकृतिक संसाधनों को आज बचाने की...

विश्व पर्यावरण दिवस: प्रकृति में निहित प्राकृतिक संसाधनों को आज बचाने की जरूरत

पर्यावरण दिवस मनाने का असली महत्व तब होगा जब हम अपने आसपास के वनस्पति पेड़-पौधे जीव-जंतु का संरक्षण करेंगे और हमे इनके दोहन को रोकना पड़ेगा ताकि पर्यावरण संतुलन बन सके अन्यथा जिस प्रकार से वर्तमान समय में पर्यावरण संतुलन बिगड़ा है उसके गंभीर परिणाम हमको भुगतने पड़ेंगे, जिसके जिम्मेदार हम स्वयं होंगे।

पर्यावरण दिवस का असली महत्व तभी होगा जब हम इस दिन प्रकृति में निहित प्राकृतिक संसाधनों को बचाने का संकल्प लेंगे तभी हमारा पर्यावरण सुरक्षित रहेगा। जो ये प्राकृतिक वनस्पति प्रकृति ने निःशुल्क उपहार में दिया हैं उनका संरक्षण करके हमारे पूर्वजों ने हमारे लिए रखे हैं अब हमारा दायित्व हैं हम भी उन्हें बचाकर अपने आनेवाली पीढ़ी के लिए रखे यही इस प्रकृति की सच्ची सेवा होगी।


पर्यावरणविद् वृक्षमित्र डॉ त्रिलोक चंद्र सोनी का कहना है आज मनुष्य के भोगवादी परवर्ती के कारण लगातार प्राकृतिक संसाधनों का दोहन करके पर्यावरण असंतुलन किया जा रहा है इस का हकदार शहर व गांव दोनों हैं क्योंकि दोनों के द्वारा पर्यावरण को बिगाड़ा जा रहा है।

शहरों में पेड़ पौधों को काट कर शहर बसाये जा रहे है वही ग्रामीण क्षेत्रों में गर्मी आते ही जंगलों में आग लगा देते हैं जिससे कई पेड़ पौधें, जीव जंतु स्वाह हो जाते हैं कई जंगली जानवर व उनके बच्चे जलकर राख हो जाते हैं पक्षियों के घोंसले, अंडे व बच्चे जल जाते हैं जिससे उनकी पीढ़ियां समाप्त हो रहे हैं। समय रहते पर्यावरणीय संतुलन के लिए हमें इन्हें बचना होगा।


वृक्षमित्र डॉ सोनी ने कहा आग के कारण पर्यावरण दूषित हो रहा हैं, पानी के जलस्रोत सूख रहे हैं, प्राकृतिक वनस्पतियां नष्ट हो रहे हैं जिस कारण बेमौसम बारिश हो रही हैं बादल फटने के घटनाओं का जन्म हो रहा है जिसका सीधा प्रभाव हमारी कृषि पर पड़ रहा हैं समय रहते हमने जंगलों में आग लगाना बंद नही किया तो इसके हमें गम्भीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे। इसके लिए हमे मेरा पेड़-मेरा दोस्त (मेरा वृक्ष-मेरा मित्र) के तहत सघन पौधारोपण करना होगा ताकि हमारी प्रकृति हरी भरी रह सके।

RELATED ARTICLES

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments

error: Content is protected !!