अन्य विभागों की तरह अब प्रदेश में पुलिसकर्मियों को भी साप्ताहिक अवकाश की सुविधा मिलने जा रही है। हालांकि अभी यह सुविधा सिर्फ राज्य के पहाड़ी जिलों में ही लागू की जा रही है लेकिन यदि विभाग का यह प्रयोग खरा उतरा तो आने वाले समय में इससे महकमे के सभी कार्मिकों को लाभ मिलेगा।

इसी कड़ी में उत्तराखंड के पहाड़ी जिलों में पुलिसकर्मियों के लिए साप्ताहिक अवकाश संबंधी आदेश जारी कर दिया गया है। डीजीपी के अनुसार यह व्यवस्था प्रयोग के तौर पर आगामी एक जनवरी से लागू की जा रही है। साप्ताहिक अवकाश में यदि जरूरत पड़ी तो पुलिसकर्मी को ड्यूटी पर बुलाया जा सकता है।

डीजीपी अशोक कुमार ने बताया कि पुलिसकर्मियों के मनोबल व कार्यक्षमता को बढ़ाने के लिए प्रथम चरण में यह परीक्षण किया जा रहा है। कार्मिकों को अवकाश रोस्टरवार दिया जाएगा और इसे थाना प्रभारी ही तय करेगा कि उसे किस दिन किस-किस कर्मचारी को छुट्टी या विश्राम देना है।

साप्ताहिक विश्राम के दौरान पुलिसकर्मी नियुक्ति मुख्यालय नहीं छोड़ेगा और वह रिजर्व ड्यूटी पर समझा जाएगा। विशेष परिस्थिति में जैसे-आपदा, दुर्घटना एवं कानून व्यवस्था की स्थिति में यदि ड्यूटी पूरी नहीं हो पा रही है, तो साप्ताहिक विश्राम पर गए कर्मी को थाना प्रभारी द्वारा वापस बुलाया जा सकता है। यह बात शुरुआत से ही नियम शर्तों में लागू रहेगी।

अभी इन जिलों में मिलेगी अवकाश की सुविधा

पौड़ी गढ़वाल, टिहरी, उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग, अल्मोड़ा, पिथौरागढ़, बागेश्वर व चंपावत।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here