हल्द्वानी। उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय परीक्षा समिति की यहां सम्पन्न हुई बैठक में ऑनलाइन पढ़ाई के पश्चात अब विवि ने ऑनलाइन परीक्षा आयेाजित कराने का निर्णय लिया है।

कुलपति प्रो. ओपीएस नेगी की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई विवि परीक्षा समिति की बैठक में प्रमुख रूप से तीन अहम निर्णय लिए गए। समिति द्वारा पहला निर्णय यह लिया गया कि आनलाइन परीक्षा प्रयोग के तौर पर आगामी सत्र 2020-21 से असाइनमेंट की परीक्षा ऑनलाइन करवाई जाएगी।

यह भी पढ़ें-  प्रदेश में कोरोना की बढ़ती चाल, संख्या पहुंची 120

बैठक में बताया गया कि विवि द्वारा हर परीक्षार्थी को एक लॉगिन पासवर्ड मिलेगा, हर विषय के लिए विवि के विषय शिक्षकों को कार्डिनेटर नियुक्त किया जाएगा, परीक्षार्थियों को विषय वार दिन एवं समय एलॉट किया जाएगा।

परीक्षार्थी अपने आंवटित तिथि एवं निर्धारित समय पर आनलाइन लॉगिन कर संबंधित विषय के पेपर के सवालों का जबाव ऑनलाइन सबमिट कर देंगे। बताया गया कि असाइनमेंट में वस्तुनिष्ठ सवाल होंगे, प्रत्येक सवाल के 4 विकल्प दिए जाएंगे, सही विकल्प का चयन कर ऑनलाइन सबमिट करना होगा।

यह भी पढ़ें-  तृतीय केदार भगवान तुंगनाथ धाम के खुले कपाट

बैठक में प्रो. पीडी पन्त, प्रो. एचपी शुक्ल, प्रो. गिरिजा पांडेय, प्रो. आरसी मिश्र, प्रो. दुर्गेश पन्त, डा. सूर्यभान सिंह, डा. गगन सिंह, भरत सिंह, आभा गर्खाल, उपकुलसचिव विमल मिश्र, पीआरओ डा. राकेश रयाल आदि मौजूद थे।

यह भी पढ़े-  ‘प्रवासी’ लोगों के लौटने के बाद से संकट में ‘पहाड़’

परीक्षा का समय हुआ दो घंटा

उत्तराखण्ड मुक्त विवि में परीक्षा का समय 2 घंटा कर दिया गया है। परीक्षा में पहले तीन घंटे का समय दिया जाता था। अब सवाल सिर्फ 2 प्रकार के होंगे एक दीर्घ उत्तरीय जिसमें 5 में से 2 सवाल करने होंगे और दूसरे लघु उत्तरीय जिसमें 8 में से 4 सवालों के जबाव देने होंगे।

असाइनमेंट के लिए स्टडी सेंटर का झंझट नहीं

विवि के परीक्षार्थियों को अब असाइनमेंट जमा करने के लिए स्टडी सेंटर नहीं जाना पड़ेगा। यही नहीं असाइनमेंट के नंबर सवालों के जबाव देते ही ऑनलाईन अपडेट दर्ज हो जाएंगे। इस व्यवस्था से जहां समय बचेगा, वहीं कार्यप्रणाली में सुधार भी आएगा।

समय पर परीक्षाएं लॉकडाउन पर निर्भर

विवि परीक्षा समिति द्वारा यह फैसला लिया गया है कि यदि समय रहते लॉकडॉउन खुला और सभी स्थितियां अनुकूल रही तो परीक्षाएं समय पर तथा पूरी करा दी जाएंगी, अन्यथा सभी डिग्री कार्यक्रम के अंतिम वर्ष की परीक्षाएं ही कराई जाएंगी, बाकी प्रथम द्वितीय वर्ष की परीक्षाएं शीतकालीन परीक्षाओं के साथ करवाई जाएंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here