जल जीवन मिशन के तहत राज्य सरकार अब एक रुपये में पानी का कनेक्शन देगी। सूबे के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आज डोईवाला ब्लाक के दूधली के नांगल बुलंदावाला में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान यह घोषणा की।

उन्होंने कहा कि प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में पानी के संयोजन के लिए 2350 रुपये देना आम आदमी के लिए कठिन हो रहा है जिसके चलते अब सरकार ने यह निर्णय लिया है कि गांवों में पानी का कनेक्शन एक रुपये में प्रदान किया जाएगा।

जानें- COVID-19 Update: प्रदेश में कोरोना के आज 37 मामले, अब तक 3161

मुख्यमंत्री Trivendra Singh Rawat ने कहा कि प्रधानमंत्री ने जल जीवन मिशन के तहत 2024 तक हर घर को नल देने की योजना बनाई है। कहा कि सरकार ने हर गरीब के कल्याण की योजना बनाई है। कहा कि नल देने का मतलब पीने का स्वच्छ पेयजल देना है, जिसमें मानक के अनुसार पानी उपलब्ध कराना है।

जानें- देवस्थानम विधेयक को चुनौती वाली याचिका की सुनवाई पूरी, कोर्ट ने रखा फैसला सुरक्षित

CM Uttarakhand Trivendra Singh Rawat ने बताया कि पिछले दिनों एक बैठक में जब उन्हें पता चला कि गांव में पेयजल कनेक्शन का शुल्क 2350 रुपये है तो उन्हें महसूस हुआ कि यह धनराशि गांव के लिहाज से काफी अधिक है। कहा कि राज्य के अधिकांश गांवों में हर व्यक्ति के लिए 2350 रूपए जुटाना सामान्य बात नहीं है।

कहा कि इससे यह अंदाजा लगाया गया कि हर ग्रामीण पानी का कनेक्शन नहीं ले पाएगा। जिससे हर घर में नल की योजना अधूरी रह जाएगी। अब सरकार एक रूपए में जल जीवन मिशन के तहत पानी का कनेक्शन देगी। कहा कि उत्तराखण्ड देश का पहला राज्य होगा जहां मात्र एक रुपये में पानी का कनेक्शन दिया जाएगा।

जानें- Doon Zoo: आमजन के लिए जल्द खुलेगा दून चिड़ियाघर

एक नजर में जल जीवन मिशन

  • प्रदेश के 15,647 गांवों में 1509,758 परिवारों तक पीने का स्वच्छ पानी पहुंचाया जाएगा।
  • उत्तराखंड जल संस्थान, स्वजल और उत्तराखंड पेयजल निगम कार्यदायी संस्था।
  • 3806 राजस्व गांवों में 361654 परिवारों के घर नल पहुंचाने का जिम्मा उत्तराखंड जल संस्थान के पास।
  • स्वजल 2078 राजस्व गांवों के 235994 परिवारों के घरों तक पहुंचाएगा स्वच्छ पेयजल।
  • पेयजल निगम के पास बड़ी जिम्मेदारी, 9754 राजस्व गांवों के 911953 परिवारों तक पहुंचाना है पानी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here