कोरोना वायरस से बचाव के लिए उत्तराखंड को कोविड वैक्सीन की चौथी खेप मिल गई है। केंद्र सरकार ने पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया से एक लाख 93 हजार 500 कोविशील्ड वैक्सीन विशेष विमान से उत्तराखंड को भेजी हैं। ये वैक्सीन फ्रंट लाइन वर्करों को लगाई जाएंगी।

गुरूवार को पुणे से विशेष विमान से कोविशील्ड वैक्सीन की खेप दोपहर 2.45 बजे जौलीग्रांट एयरपोर्ट पहुंची। जहां पर सड़क मार्ग के जरिये वैक्सीनेशन वेन से वैक्सीन को राज्य वैक्सीन स्टोर चंदर नगर पहुंचा गया। केंद्र के दिशानिर्देशों के अनुसार उत्तरकाशी जिले को छोड़ कर बाकी सभी 12 जिलों के लिए वैक्सीन भेज दी गई है।

राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. कुलदीप सिंह मर्तोलिया ने बताया कि केंद्र से मिली वैक्सीन को फ्रंट लाइन वर्करों को दी जाएगी। इसके साथ ही वैक्सीन लगवाने से छूट गए हेल्थ वर्करों को वैक्सीन लगाई जाएगी। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की निदेशक डॉ. सरोज नैथानी ने बताया कि 10 फरवरी तक केंद्र के कोविन पोर्टल पर 181205 हेल्थ वर्करों व फ्रंट लाइन वर्करों का पंजीकरण किया गया है।

हेल्थ वर्करों और फ्रंट लाइन वर्करों की संख्या के अनुसार प्रदेश को 398651 वैक्सीन डोज उपयोग में लाई जाएगी। प्रत्येक हेल्थ वर्कर व फ्रंट लाइन वर्कर को वैक्सीन की दो डोज दी जाएगी। इसके आधार पर प्रदेश में पर्याप्त वैक्सीन पहुंच गई है।

कोविड वैक्सीन लगवाने के लिए केंद्र के कोविन पोर्टल पर राजस्व, पंचायतीराज विभाग के फ्रंट लाइन वर्करों का पंजीकरण किया जा सकेगा। केंद्र सरकार ने फ्रंट लाइन वर्करों के लिए पंजीकरण की तिथि बढ़ाई है।

प्रदेश में जिन हेल्थ वर्करों को वैक्सीन की पहली डोज दी जा चुकी है। उन्हें दूसरी डोज 19 मार्च से शुरू की जाएगी। केंद्र की गाइडलाइन के अनुसार 28 दिन के बाद अनिवार्य रूप से वैक्सीन की दूसरी डोज लगानी जरूरी है। इसके बाद ही सरकारी में एंटी बॉडी विकसित होने लगेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here