कोरोना संक्रमण के संदिग्ध रोगियों के सैंपलों की जांच यहां राजधानी स्थित इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ पेट्रोलियम (आईआईपी) में आज से शुरू हो गई है। प्रदेश में कोरोना की जांच के लिए पर्याप्त लैब न होने के कारण सैंपलों की वेटिंग सात हजार तक पहुंच गई है।

हालांकि राज्य सरकार निजी लैब से भी अब जांच कराने की तैयारी कर रही है। इसके लिए अन्य प्रदेशों से जानकाी जुटाई जा रही है।

अपडेट-  दून में 34 रोगियों समेत राज्य में मिले 60 कोरोना रोगी, संख्या हुई 1145
उत्तराखंड में फिलहाल चार सरकारी एवं एक निजी समेत कुल पांच लैब में कोरोना के सैंपलों की जांच की जा रही है। प्रदेश में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामलों के चलते वर्तमान में प्रदेश में सैंपलों की वेटिंग सात हजार पार हो गई है।
इन सभी सैंपलों की जांच रिपोर्ट आने पर राज्य में संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़ने का अंदेशा जताया जा रहा है। प्रदेश में अब तक 27 हजार से अधिक सैंपलों की जांच की जा चुकी है। जिसमें अभी तक 1145 रोगी कोरोना पॉजिटिव मिले हैं।
हालांकि बाहरी राज्यों से आने वाले लोग संक्रमित मिलने से राज्य सरकार ने सैंपलिंग बढ़ाई है, लेकिन प्रदेश में कम लैब होने के कारण सैंपलों की वेटिंग लगातार बढ़ती जा रही है।
अब आईआईपी में भी सैंपलों की जांच शुरू कर दी गई है। हालांकि इस लैब में शुरूआत में कम सैंपलों की जांच हो रही है, लेकिन आगामी दिनों में यहां सैंपलों की जांच बढ़ाई जाएगी।

——————-

उत्तराखंड में वैश्विक महामारी कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य सरकार ने प्रदेश के चार जिलों में ट्रू नेट सैंपल जांच शुरू करने की तैयारी पूरी कर ली है। वहीं सरकार ने स्वयं के व्यय पर अब निजी पैथोलॉजी लैब में भी कोरोना सैंपल की जांच कराए जाने का निर्णय लिया है।

इसके लिए निविदा जारी करने के लिए चार दिन की समय सीमा निर्धारित की गई है। यूपी व अन्य प्रदेश जिस रेट पर जांच करा रहे हैं, उसी रेट पर यहां राज्य में भी निजी लैब से सैंपल जांच कराए जाएंगे।

उत्तराखण्ड अपडेट-  नैनीताल में कोरोना बम विस्फोट, संख्या पहुंची 716

मालूम हो कि राज्य में सैंपलिंग बढ़ने के साथ ही सरकारी लैब में कोरोना जांच का दबाव लगातार बढ़ रहा है। उत्तराखण्ड में भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद की अनुमति के बाद वर्तमान में चार सरकारी लैब और एक निजी लैब में सैंपलों की जांच की जा रही है।

राज्य में अब तक जांच रिपोर्ट के आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो अभी तक कुल 25380 सैंपल लिए गए हैं, जिसमें से 19077 की रिपोर्ट निगेटिव आई है। अभी तक 4758 सैंपल जांच के लिए लंबित पड़े हुए हैं।

यह भी जानें-  राज्य में अब एक जिले से दूसरे जिले में जाने पर नहीं होंगे क्वारंटीन

राज्य के इन चार जिलों में ट्रू नेट सैंपल जांच

राज्य के चार जिलों में सरकार ने कोरोना जांच सैंपलिंग बढ़ाने के लिए ट्रू नेट सैंपल जांच शुरू करने की तैयारी प्रारंभ कर दी है। स्वस्थ्य विभाग के मुताबिक इसके लिए विभाग के पास मशीनें पहुंच गईं हैं। बताया गया है कि इस एक मशीन से 24 घंटे में 80 से 100 सैपलों की जांच की जा सकेगी।

इन मशीनों को ऊधमसिंह नगर, रुड़की, पिथौरागढ एवं उत्तरकाशी के अस्पतालों में स्थापित किया जाएगा। इधर, आईआईपी देहरादून में आरटीपीसीआर टेस्टिंग इस महीने के अंत तक प्रारंभ होगी। सूबे के अपर सचिव स्वस्थ्य वाईके पंत ने यह जानकारी दी है।

अभी स्टेज टू में है राज्य में कोरोना

उत्तराखण्ड में बाहरी राज्यों से प्रवासी लोगों के आने से कोरोना के मामलों में इजाफा हुआ है लेकिन अभी कोरोना स्टेज टू में है और सामुदायिक स्तर पर यह नहीं फैला है। अब स्वास्थ्य विभाग के साथ ही शासन-प्रशासन के सामने इसके संक्रमण को स्टेज थ्री में पहुंचने से बचाने की कड़ी चुनौती सामने है। अब देखना यह होगा कि आने वाले दिनों में इसके संक्रमण को रोकने के लिए किस प्रकार से सरकार कार्य योजना को अमल में लाती है।

लाभ उठाएं-  मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजनाः जानें आवेदन प्रक्रिया, पात्रता एवं शर्तें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here