6 C
New York
Saturday, April 17, 2021
spot_img
Homeहमारा उत्तराखण्डLockdown Uttarakhand: प्रवासियों की घर वापसी को अगले तीन दिनों में तीन...

Lockdown Uttarakhand: प्रवासियों की घर वापसी को अगले तीन दिनों में तीन विशेष रेल

देहरादून। लॉकडाउन की वजह से देश के विभिन्न राज्यों में फंसे प्रदेश वासियों की घर वापसी के लिए आने वाले तीन दिनों में तीन विशेष रेल सेवाओं का संचालन किया जा रहा है।

इसके तहत आज रविवार को एक रेल गोवा से प्रवासियों को लेकर हरिद्वार के लिए रवाना की जाएगी, जबकि एक अहमदाबाद से लालकुआं और दूसरी हैदराबाद से हरिद्वार आएगी।

प्रदेश सरकार द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार पश्चिम बंगाल में सूबे के फंसे करीब 1400 प्रवासियों को लाने के लिए भी विशेष रेल चलाने पर सहमति हो गई है।

सरकार से मिली जानकारी के अनुसार आगामी पांच दिनों के लिए जो प्लान तैयार किया गया है उसके मुताबिक दिल्ली, चेन्नई, गुजरात, पुणे, तेलंगाना, सूरत, गोवा समेत अन्य कई राज्यों में फंसे प्रवासी लोगों को रेल से वापस लाने के लिए प्रयास किए जाएंगे।

प्रदेश सरकार द्वारा यह भी तय किया गया है कि पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश से उत्तराखंड 56258 प्रवासी जल्द रेल के माध्यम से लाए जाएंगे। बताया गया कि 13684 लोगों को यहां से उत्तर प्रदेश भेजा जाएगा।

ऑनलाइन पंजीकरण की स्थिति

देश के विभिन्न राज्यों से उत्तराखंड आने के लिए अब तक 217339 प्रवासियों ने ऑनलाइन पंजीकरण कराया है। हालांकि इसमें से अब तक विभिन्न राज्यों से 89428 लोगों को वापस लाया जा चुका है।

यही नहीं 18645 प्रवासियों को सूबे से बाहर उनके गृह प्रदेशों में भेजा जा चुका है। इसके अलावा अन्य प्रदेशों को वापस जाने वाले वहां के प्रवासियों के ऑनलाइन पंजीकरण की संख्या 35538 तक पहुंच चुकी है। यहां प्रदेश के भीतर एक जनपद से दूसरे जनपद को 72658 लोग भेजे जा चुके हैं।

उत्तराखण्ड में विभिन्न राज्यों से आ चुके 89428 प्रवासी

राज्य                    प्रवासी
हरियाणा                17068
दिल्ली                  29662
चंडीगढ                  7807
उत्तर प्रदेश             15530
राजस्थान              3787
गुजरात                 3527
पंजाब                  4594
कर्नाटक                2443
महाराष्ट्र                 3782
अन्य राज्य             1228

———————————

अपडेट
देहरादून। लॉकडाउन के चलते प्रदेश के बाहरी राज्यों में फंसे प्रवासी लोगों की घर वापसी के लिए 11 मई से रेल सेवा शुरू होने जा रही है। विदित हो कि प्रदेश सरकार द्वारा पूर्व में केन्द्र से प्रवासी लोगों की घर वापसी के लिए 12 स्पेशल ट्रेन चलाए जाने की मांग की गई थी।

विदित हो कि प्रदेश सरकार द्वारा पूर्व में केन्द्र से प्रवासी लोगों की घर वापसी के लिए 12 स्पेशल ट्रेन चलाए जाने की मांग की गई थी।

इसी क्रम में 11 मई से रेल सेवा शुरू हो रही है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के मुताबिक कल 11 मई को सुबह चार बजे गुजरात के सूरत से काठगोदाम के लिए एक रेल गाड़ी चलाई जाएगी, जिसमें उत्तराखण्ड के कुमांऊक्षेत्र के प्रवासी लोग वापस अपने घरों को आ सकेंगे। जबकि 12 मई को दूसरी रेल सूरत से हरिद्वार आएगी, जिसमें गढ़वाल मंडल के प्रवासी लोग यहां पहुंचेंगे। इसका समय अभी तय नहीं हो पाया है।

———————————-

देहरादून। उत्तराखण्ड में दूसरे प्रदेश के लोगों की घर वापसी का अभियान राज्य सरकार ने प्रारंभ कर दिया है। प्रदेश के शेल्टर होम में क्वारंटीन किए गए ऐसे लोगों को आज से घर भेजना शुरू कर दिया है। गढ़वाल में फंसे उत्तर प्रदेश के लोगों के लिए हरिद्वार केन्द्र बनाया गया है जबकि और कुमाऊं के लिए बरेली को केंद्र बनाया गया है।

यहां देहरादून स्थित जैन धर्मशाला और महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कॉलेज में बसों को सेनेटाइज करने के बाद फंसे लोगों को बसों से रवाना किया गया। इससे पूर्व फंसे मजदूरों की छंटनी की गई। शारीरिक दूरी को मध्यनजर रखते हुए लोगों को गाड़ी में बिठाया गया। अकेले स्पोर्ट्स कॉलेज से लगभग 500 मजदूरों को उनके घर भेजा गया, जबकि कुमांऊ के हल्द्वानी में बने शेल्टर होम से 130 लोगों को रवाना किया गया। टनकपुर, पिथौरागढ़ एवं चम्पावत के शिविरों से यूपी के 442 लोगों को उनके घर बसों से रवाना किया गया।

क्लिक करे और पढ़े : उत्तराखंड वासियों ने कराया घर वापसी को रजिस्ट्रेशन 

लॉकडाउन में फंसे यूपी के लोगों को वापस घर भेजने के लिए हरिद्वार में बसें उपलब्ध करा दी गई हैं। उत्तराखंड परिवहन निगम की बसों से यहां फंसे लोगों को बरेली और हरिद्वार पहुंचाया जा रहा है। उत्त्राखण्ड रोडवेज की जिन बसों से बाहर के राज्यों के लोगों को वापस भेजा जा रहा है उन्हीं बसों से वहां से फिर उत्तराखण्ड के फंसे लोगों को यहां वापस लाया जाएगा इसके लिए शासन ने रूट चार्ट तैयार कर लिया है इसके अनुसार ही अलग-अलग दिनों में अलग-अलग राज्य के लोगों को भेजा जाएगा। सरकार के मुताबिक दूसरे राज्यों से इस बारे में लगातार संपर्क बनाया हुआ है।

RELATED ARTICLES

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!