कीर्तिनगर टिहरी। गुरुवार को राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा के पदाधिकारियों ने पुरानी पेंशन बहाली के सम्बंध में उप जिलाधिकारी कीर्तिनगर को ज्ञापन सौंपा। राज्य में लगातार पुरानी पेंशन की बहाली को लेकर सन्युक्त मोर्चा द्वारा संघर्ष जारी है। इस संघर्ष के क्रम को आगे बढ़ाते हुए कर्मचारियों ने अपने अपने ब्लॉकों से माननीय मुख्यमंत्री महोदय को उप जिलाधिकारियों के माध्यम से ज्ञापन सौंपा। जिसमे गुजारिश की गई है कि बाजार आधारित नई पेंशन व्यवस्था को समाप्त कर पुरानी पेंशन को बहाल किया जाय।

मोर्चे के पदाधिकारियों में से राजीव उनियाल ने बताया कि राज्य में 80000 हज़ार कार्मिक इस योजना में प्रतिभाग कर रहे हैं क्योंकि यह उनके भविष्य की चिंता है। भविष्य के चिंतन से कर्मचारी भयभीत हैं। सरकार को शीघ्र इस ओर निर्णय लेने की आवश्यकता है।

राजस्व विभाग के विकास बिष्ट ने कहा कि सन्गठन सदैव धरातल पर कार्य करने पर विश्वास रखता है। उसी के क्रम में अधिक से अधिक कर्मचारियों को मुहिम से जोड़ कर सक्रिय योगदान की अपील कर रहा है।

दीपक चन्द्र जदली ने कहा कि पेंशन बहाली की मुहिम लगातार मोर्चे के प्रयासों से ईमानदारी से आगे बढ़ाई जा रही है जिसमे सभी कार्मिकों का बहुत शानदार समर्थन मिल रहा है।

आलोक उनियाल ने कहा प्रदेश में 2005 से कर्मचारियों की पुरानी पेंशन योजना को बंद कर दिया गया है। जिसके बाद एक नई पेंशन योजना लागू की गई है, जिसमे सेवानिवृत्त होने के बाद कर्मचारियो को 1000 रु प्रतिमाह से भी कम पेंशन मिल रही है। जिससे गुज़ारे की बात सोचना भी हास्यास्पद है। ऐसी स्थिति में कर्मचारियों को छोड़ देने के बाद सरकार 15 सालों से कोई सुध नही ली है। कर्मचारियों का कहना है कि पुरानी पेंशन का मुद्दा सत्ता और कर्मचारियों दोनो के लिए निर्णायक सिद्ध होगा।

ज्ञापन देने वालो में राजीव उनियाल, दीपक चन्द्र जदली, आलोक उनियाल, विक्रम सजवाण, रमेश रौथाण, विकास बिष्ट, विजय राम पेटवाल, नरेंद्र राणा, गणेश उनियाल, रवि खत्री, मनोज सिंह, गौरी सुंदरियाल, प्रदीप चन्द्र आदि सदस्य शामिल थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here