6 C
New York
Tuesday, April 13, 2021
spot_img
Homeहमारा उत्तराखण्डपार्टी निष्कासितों की वापसी पर होगा विचार, सरकार-संगठन में दायित्व की होगी...

पार्टी निष्कासितों की वापसी पर होगा विचार, सरकार-संगठन में दायित्व की होगी समीक्षाः मदन कौशिक

उत्तराखंड भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि पार्टी से पूर्व में निष्कासितों की वापसी के लिए बनी कमेटी विचार करेगी और सरकार-संगठन में दायित्व उन्हीं को मिलेंगे जो सक्रिय होंगे। पार्टी इसकी समीक्षा करेगी। जिलास्तरीय दौरों में उन्हें जहां यह लगेगा कि संगठन में बदलाव होना चाहिए, वह बदलाव करेंगे।

कौशिक मंगलवार को प्रदेश पार्टी कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। इससे पूर्व उन्होंने पूजा अर्चना कर पूरे विधि विधान से प्रदेश अध्यक्ष पद पर कार्यभार ग्रहण किया। पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व कैबिनेट मंत्री बंशीधर भगत ने कौशिक को प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठाया।

इस दौरान मीडिया कर्मियों से बातचीत में कौशिक ने कहा कि भाजपा कार्यकर्ता आधारित पार्टी हैं और हर चुनौती से निपटना जानती है। मेरे सामने चुनौती और प्राथमिकता एक ही है कि हर कार्यकर्ता को 2022 के विधानसभा चुनाव 60 सीटों के साथ प्रचंड बहुमत हासिल करने के लिए प्रेरित करना है।

उन्होंने कहा कि वह गंगा पूजन के लिए जा रहे हैं। 22 मार्च से 24 मार्च के बीच बागेश्वर, चंपावत और पिथौरागढ़ जिले का दौरा करेंगे। अप्रैल माह तक वह प्रदेश के सभी जिलों का भ्रमण कर लेंगे। वे कार्यकर्ताओं से मिशन 2022 में सीटें 60 के पार का आह्वान करेंगे।

जिलों के दौरे में जहां लगेगा वहां बदलाव किया जाएगा। पार्टी के निष्कासितों की घर वापसी के सवाल पर उन्होंने कहा कि इसके लिए कमेटी बनी है और गुण दोष के आधार पर निर्णय लिया जाएगा। सरकार और संगठन में दायित्वों पर उन्होंने कहा कि इसकी समीक्षा होगी और ये देखा जाएगा कि कौन कितनी सक्रियता के साथ पार्टी को अपना योगदान दे रहा है।

बदरीनाथ के पार्टी विधायक महेंद्र भट्ट के इस खुलासे पर कि एक कांग्रेस विधायक मुख्यमंत्री के लिए अपनी सीट छोड़ रहा है, इसके बारे में कौशिक ने कहा कि वह भट्ट से इस बारे में बात करेंगे। वैसे भी कांग्रेस विधायकों का अपनी पार्टी से मोहभंग हो गया है।

कौशिक ने कांग्रेस पर गुटबाजी को लेकर तंज किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश के लोगों ने कांग्रेस को जो भी जनादेश दिया था, उसकी अपेक्षा थी कि वह जनसमस्याएं उठाए, लेकिन कांग्रेस आपसी लड़ाई में फंसी रही। उसने जनसमस्याएं नहीं उठाई। जबकि भाजपा और सरकार में दायित्व परिवर्तन हुआ और एक हफ्ते में सब सामान्य हो गया।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मैदान से बनाए जाने के सवाल पर कौशिक ने कहा कि पार्टी पहाड़ या मैदान को लेकर विचार नहीं करती। वह समग्रता में निर्णय लेती है। जिसको भी जो जिम्मेदारी मिलती है, वो कार्यकर्ता के तौर पर उसे निभाता है।
कौशिक ने कहा कि चिंतन शिविर और प्रदेश कार्यसमिति की बैठक पर जल्द निर्णय लेगी। कुछ दिन में वह पार्टी पदाधिकारियों के साथ बैठकर चर्चा करेंगे और दोनों बैठकों की तिथियां तय हो जाएंगी।

कौशिक ने कहा कि दूसरे दलों के कार्यकर्ता केवल चुनाव में सक्रिय होते हैं। जबकि भाजपा कार्यकर्ता आधारित पार्टी है। जो हर वक्त सांगठनिक गतिविधियों के माध्यम से समाज सेवा में जुटता है।

RELATED ARTICLES

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!