उत्तराखण्ड में छात्रवृत्ति घोटाले में एसआईटी की बड़ी कार्रवाई सामने आई है। देहरादून और हरिद्धार के 22 कॉलेजों के खिलाफ आज 12 और मुकदमे दर्ज किए गए हैं। इन मामलों में 10 करोड़ 88 लाख से ज्यादा का घोटाला पकड़ा गया है।

बता दें कि इससे पूर्व इन दोनों जिलों के 128 कॉलेजों में 200 करोड़ का घोटाला पकड़ा गया था। जिसके बाद कई कॉलेजों के खिलाफ जांच चल रही है। अब तक हरिद्वार के 78 कॉलेजों में 163 करोड़ तो देहरादून के 50 कॉलेजों में 34 करोड़ से ज्यादा का घोटाला सामने आ चुका है।

अभी तक 30 से ज्यादा अधिकारी, कॉलेज संचालक, कर्मचारी और बिचैलिए गिरफ्तार हो चुके हैं। विदित हो कि हाइकोर्ट के आदेश पर हरिद्धार और देहरादून में आईपीएस मंजू नाथ टीसी और 11 जिलों की जांच आईजी संजय गुंज्याल के नेतृत्व वाली एसआईटी कर रही है। आईजी गुंज्याल वाली एसआईटी ने भी ऊधमसिंह नगर, नैनीताल, टिहरी आदि जिलों में बड़ी कार्रवाई की गई है। अभी कई स्कूल, कॉलेजों की जांच जारी है।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अभी प्रदेश के कई बड़े कालेजों में बांटी गई छात्रवृत्ति के दस्तावेज खंगाले जा रहे हैं। इन कालेजों में प्रवेश एवं छात्रवृत्ति प्राप्त करने वाले छात्रों की पात्रता की जांच की जा रही है। बताया गया है कि जांच के दौरान कुछ ऐसे कालेज के मामले भी सामने आए हैं जो धरातल पर कहीं मौजूद ही नहीं हैं।

प्रदेश में चल रहे लाॅकडाउन के कारण अभी तक एसआईटी की जांच धीमी चल रही थी, लेकिन अब जांच टीम ने दोबारा कालेजों के खिलाफ इस घोटाले से जुड़े दस्तावेज खंगालने शुरू कर दिए हैं। इस जांच से बच रहे बड़े कालेज संचालकों में हड़कंप मचा हुआ है। जल्द टीम इन पर भी अपना शिकंजा कस सकती है।

इन कालेजों के खिलाफ हुआ मुकदमा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here