आने वाले समय में अब बदरीनाथ धाम अपने अलग अंदाज में नजर आएगा। उत्तराखण्ड पर्यटन विभाग ने कंसलटेंसी के माध्यम से इसके लिए मास्टर प्लान तैयार कर लिया है। केदारपुरी की तरह अब बदरीशपुरी भी भव्य बनेगी। फिलहाल इस प्लान पर अभी तीर्थ पुरोहितों, स्थानीय लोगों के साथ ही हक हकूक धारियों से सुझाव मांगे जाएंगे।

फिर इसे प्रदेश मुख्यमंत्री, पर्यटन मंत्री और मुख्य सचिव समेत इससे जुड़े आला अधिकारियों सामने रखा जाएगा। इसके बाद सहमति बनने पर यह मास्टर प्लान पीएम नरेंद्र मोदी के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा।

बता दें कि पहली बार पर्यटन विभाग ने श्री बदरीनाथ धाम को भव्य स्वरूप देने के लिए मास्टर प्लान बनाया है। इस प्लान के तहत जो प्रमुख कार्य संपादित कराए जाएंगे, उनमें यहां धाम में आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधाएं के साथ सौंदर्यीकरण, तीर्थ यात्रियों को ठंड से बचने का इंतजाम, ठहरने, बैठने के साथ बदरी ताल, नेत्र ताल का सौंदर्यीकरण, पार्किंग का निर्माण आदि के कार्य शामिल हैं। इस प्लान के तहत धाम परिसर में खुली जगह मिल सकेगी।

सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर ने बताया कि मास्टर प्लान को मुख्यमंत्री के समक्ष प्रस्तुत किया गया है। हक-हकूकधारी, स्थानीय लोगों और तीर्थ पुरोहितों के साथ मास्टर प्लान पर सुझाव लेने के बाद दोबारा से सीएम, पर्यटन मंत्री और मुख्य सचिव के समक्ष इसे रखा जाएगा।

प्लान को अंतिम सहमति के बाद ही पीएमओ को भेजा जाएगा। बताया कि सीएम ने बदरीनाथ के मास्टर प्लान पर तीर्थ पुरोहितों और स्थानीय लोगों के सुझाव प्राप्त करने के निर्देश दिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here