IiMzMmM0ZGIi
19.6 C
Dehradun
Monday, September 26, 2022
Homeहमारा उत्तराखण्डशारदीय नवरात्रि 26 सितंबर सोमवार से होंगे प्रारंभ, गजकेसरी योग में हो...

शारदीय नवरात्रि 26 सितंबर सोमवार से होंगे प्रारंभ, गजकेसरी योग में हो रहा है नवरात्रि प्रारंभ, इसलिए रहेगा पूरे देश दुनिया के लिए शुभ

इस साल शारदीय नवरात्रि 26 सितंबर सोमवार से प्रारंभ हो रही है और समापन 05 अक्टूबर बुधवार के दिन हो रहा है। बृहस्पति और चंद्रमा की स्थिति से नवरात्रि गजकेसरी योग में प्रारंभ हो रही है इसलिए पूरे देश और दुनिया के लिए बहुत शुभ संकेत है

आचार्य डॉक्टर चंडी प्रसाद घिल्डियाल ज्योतिषीय विश्लेषण करते हुए बताते हैं कि आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शारदीय नवरात्रि का प्रारंभ होता है। वहीं उससे एक दिन पहले यानी अमावस्या को सभी पितृ गण विदा हो जाते हैं। जिसके बाद मां दुर्गा का आगमन होता है।

कलश स्थापना के साथ पूरे 9 दिनों तक मां दुर्गा के विभिन्न स्वरूपों की पूजा की जाती है। इस साल शारदीय नवरात्रि का प्रारंभ 26 सितंबर सोमवार से हो रहा है। इस साल मां दुर्गा हाथी की सवारी पर पृथ्वी लोक में पधारेंगी। जिस दिन से नवरात्रि का प्रारंभ होता है उसी दिन के अनुसार माता अपने वाहन पर सवार होकर आती हैं। माता अपने भक्तों को एक विशेष संकेत भी देती हैं।

पूजा विधि के साथ शुभ मुहू्र्त और कथा

आचार्य डॉक्टर चंडी प्रसाद घिल्डियाल आगे बताते हैं कि देवी भागवत पुराण में मां दुर्गा की सवारी के बारे में काफी विस्तार से बताया गया है।

शशि सूर्य गजरुढा शनिभौमै तुरंगमे।
गुरौशुक्रेच दोलायां बुधे नौकाप्रकीर्तिता।।

श्लोक के अनुसार यदि नवरात्रि सोमवार या रविवार से प्रारंभ होती है तो माता हाथी पर विराजमान होकर आती है। यदि नवरात्रि शनिवार या मंगलवार से प्रारंभ हो तो माता की सवारी घोड़ा होता है। वहीं यदि शुक्रवार और गुरुवार को नवरात्रि शुरू होती है तो मातारानी डोली में आती हैं। यदि बुधवार से नवरात्रि प्रारंभ हो तो माता का आगमन नौका पर होता है।

हाथी की सवारी का अर्थ, अधिक वर्षा
इस बार मां दुर्गा हाथी पर सवार होकर आ रही हैं। इसका अर्थ है कि इस बार वर्षा अधिक होगी। जिसके प्रभाव से चारों ओर हरियाली होगी। इससे फसलों पर भी अच्छा प्रभाव पड़ता है। इससे देश में अन्न के भंडार भरे रहेंगे। साथ ही धन-धान्य में वृद्धि होगी और संपन्नता आएगी।

हाथी पर ही होंगी मां दुर्गा विदा

आचार्य चंडी प्रसाद का कहना है कि
इस साल शारदीय नवरात्रि का समापन 05 अक्टूबर बुधवार के दिन हो रहा है। इस प्रकार से दिन के अनुसार माता के आगमन की सवारी तय है। वैसे ही दिन के अनुसार माता की विदाई की सवारी भी तय है। यदि मां दुर्गा बुधवार या शुक्रवार को विदा होती हैं तो उनका सवारी हाथी होती है। हाथी पर विदा होना शुभता का प्रतीक माना जाता है।

कलश स्थापना का मुहूर्त आचार्य चंडी प्रसाद घिल्डियाल बताते हैं कि इस वर्ष 26 सितंबर सोमवार को प्रातः काल 6:21 से 7:57 तक का समय कन्या लग्न में कलश स्थापना के लिए सर्वोत्तम है इसके बाद चौघड़िया मुहूर्त भी 9:19 से 10:49 तक कलश स्थापन के लिए ठीक है और इसके बाद 11:55 से 12:42 तक अभिजीत मुहूर्त में भी कलश स्थापना की जा सकती है कलश में पंच पल्लव और पंचरत्न सुपारी सहित अवश्य रखने चाहिए, हरियाली भी इसी समय डाल देनी चाहिए।

इस वर्ष नवरात्रि पूरे दिन गई हुई है इसलिए कालरात्रि का पूजन 2 अक्टूबर की मध्य रात्रि में होगा और अनुष्ठान का समापन अपने अपने संकल्प के अनुसार 3 अक्टूबर महाष्टमी 4 अक्टूबर महानवमी और 5 अक्टूबर बुधवार के दिन दशहरे के साथ होगा।

आचार्य का परिचय
नाम-आचार्य डॉक्टर चंडी प्रसाद घिल्डियाल
सहायक निदेशक शिक्षा विभाग।
निवास स्थान- 56 / 1 धर्मपुर देहरादून, उत्तराखंड। कैंप कार्यालय मकान नंबर सी 800 आईडीपीएल कॉलोनी वीरभद्र ऋषिकेश
मोबाइल नंबर-9411153845
उपलब्धियां
वर्ष 2015 में शिक्षा विभाग में प्रथम गवर्नर अवार्ड से सम्मानित, वर्ष 2016 में उत्तराखंड के तत्कालीन मुख्यमंत्री हरीश रावत ने उत्तराखंड ज्योतिष रत्न सम्मान से सम्मानित, वर्ष 2017 में त्रिवेंद्र सरकार ने दिया ज्योतिष विभूषण सम्मान। वर्ष 2013 में केदारनाथ आपदा की सबसे पहले भविष्यवाणी की थी। इसलिए 2015 से 2018 तक लगातार एक्सीलेंस अवार्ड, 5 सितंबर 2020 को प्रथम वर्चुअल टीचर्स राष्ट्रीय अवार्ड, अमर उजाला की ओर से आयोजित ज्योतिष महासम्मेलन में ग्राफिक एरा में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने दिया ज्योतिष वैज्ञानिक सम्मान।

RELATED ARTICLES

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments

error: Content is protected !!