राजेंद्र सिंह रावत राजकीय महाविद्यालय बड़कोट (उत्तरकाशी) में आज राष्ट्रीय सेवा योजना के द्वारा “स्पर्श गंगा” दिवस के तहत गंगा-यमुना अभियान पर संगोष्ठी की गई। संगोष्ठी में वक्ताओं ने विस्तार से चर्चा-परिचर्चा की।

कार्यक्रम का शुभारंभ प्राचार्य डॉ एके तिवारी ने किया। तत्पश्चात राष्ट्रीय सेवा योजना के वरिष्ठ कार्यक्रम अधिकारी डॉ० बी०पी० बहुगुणा ने राष्ट्रीय सेवा योजना के सिद्धांतों, कार्यों पर विस्तार से छात्र-छात्राओं को बताया और इस कार्यक्रम का संचालन किया छात्र अखिलेश बीएससी दूतीय वर्ष ने गंगा स्पर्श कार्यक्रम की भूमिका पर विचार व्यक्त किया। साथ ही छात्रा शिवानी कंडवाल ने भी नदियों की साफ-सफाई एवं कूड़े करकट के निस्तारण हेतु समाज को भागीदार बनाने पर जोर दिया।

इसी कड़ी में श्रीमती संगीता रावत, राष्ट्रीय सेवा योजना कार्यक्रम अधिकारी ने भी अपने वक्तव्य में कहा कि हमें समाज को जोड़कर इस कार्यक्रम को आगे बढ़ाना चाहिए। डॉ० जे०सी० रस्तोगी ने बताया कि कूड़े करकट के निस्तारण के लिए जैविक और अजैविक कूड़ा तथा ई-कचरा को अलग रखकर उसका निस्तारण किया जा सकता है। वरिष्ठ प्राध्यापक डॉ० डी०एस० मेहरा ने छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि राष्ट्रीय सेवा योजना के तहत छात्र छात्राओं को समाज को जोड़ते हुए अपने कार्यक्रम करने चाहिए।

कार्यक्रम में प्राचार्य डॉ०ए०के० तिवारी ने छात्रों एवं सभी को संबोधित करते हुए कहा कि हमें नदियों को स्वच्छ बनाने हेतु प्रयास करना चाहिए तथा राष्ट्रीय सेवा योजना के छात्र-छात्राएं विभिन्न माध्यमों से समाज को जागरूक करने हेतु प्रयासरत रहेंगे। इस अवसर पर अवसर डॉ० पुष्पांजलि आर्य, डॉ विजय बहुगुणा, डॉ० बी० एल० थपलियाल, डॉ० विनय शर्मा, डॉ0 भारती डॉ० अर्चना कुकरेती, रीना चौहान, राहुल राणा, अखिलेश नेगी, पूनम कुमारी, शीतल चौहान, राकेश रमोला एवं छात्र छात्राएं मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here