देहरादून। यहां सचिवालय में गुरूवार को आज विद्यालयी शिक्षा, संस्कृत, खेल, युवा कल्याण एवं पंचायतीराज मंत्री अरविन्द पाण्डेय ने कहा कि कोरोना के चलते वर्तमान परिस्थितियों के दृष्टिगत आम जनमानस, अभिभावकों व समाज के प्रत्येक वर्ग से समस्त जिलाधिकारियों के माध्यम से विचार-विमर्श के बाद आगामी कैबिनेट में विद्यालय खोलने का निर्णय लिया जाएगा।

शिक्षा मंत्री श्री पाण्डेय ने आज प्रदेश में कोरोना के दृष्टिगत विद्यालयों को खोलने के विषय में विभागीय अधिकारियों के साथ महत्वपूर्ण बैठक की। बैठक में लिए गए निर्णयानुसार शिक्षा मंत्री ने बताया कि देश के भविष्य हमारे सभी बच्चों की सुरक्षा सर्वोपरि है। बताया कि प्रदेश के सभी जिलाधिकारियों को एक सप्ताह के भीतर स्कूल संचालन समितियों, आम जनमानस, अभिभावकों व समाज के प्रत्येक वर्ग से राय-शुमारी के बाद स्कूल संचालन को लेकर फीडबैक मांगा गया है।

श्री पाण्डेय ने बताया कि जिलों से मिलने वाले फीडबैक के आधार पर स्वास्थ्य विभाग से चर्चा कर कैबिनेट में निर्णय लिया जाएगा। बताया कि यदि स्कूलों को खोलने के पक्ष में राय मिलती है तो तीन चरणों में स्कूलों को खोले जाने का प्रस्ताव तैयार किया जाएगा। पहले चरण में कक्षा 9 से 12, दूसरे चरण में कक्षा 6 से 12 एवं तीसरे चरण में सभी कक्षाओं के संचालन किया जाना प्रस्तावित है। उन्होंने स्पष्ट किया कि बगैर अभिभावकों की अनुमति के किसी भी बच्चे को स्कूल आने के लिए बाध्य नहीं किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here