देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक के ग्राहकों के लिए अच्छी खबर है। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के सख्त नियमों के बावजूद इन दिनों बैंकों में धोखाधड़ी के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। इस बीच कोरोना काल में बैंक फ्रॉड के मामलों में अधिक इजाफा हुआ है।

धोखाधड़ी करने वाले जालसाज नित नये तरीकों को निकाल ग्राहकों के खातों से पैसा निकाल ले रहे हैं। ऐसे में देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक SBI ने अपने ग्राहकों के लिए नई सुविधा प्रारंभ की है। बैंक ने सुरक्षित लेनदेन को ध्यान में रखते हुए नई एटीएम सर्विस शुरू की है जिससे अब किसी भी लेनेदेन से पूर्व ग्राहक को जानकारी मिल सकेगी और वह अपने खाते का समय रहते बचाव कर सकता है।

एसबीआई ने ट्वीट कर बताया कि जब भी बैंक को एटीएम से बैलेंस या मिनी स्टेटमेंट चेक करने का निवेदन मिलेगा, तो ग्राहक को तत्काल एसएमएस के माध्यम से अलर्ट किया जाएगा। बैंक ने इसकी शुरुआत इसलिए की ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि लेनदेन ग्राहक द्वारा ही किया जा रहा है या नहीं।

बैंक ने कहा कि इसके माध्यम से यह जानने में मदद मिलेगी कि ग्राहकों के डेबिट कार्ड से कोई और लेनदेन नहीं कर रहा। इससे जालसाजी के मामले कम होंगे और ग्राहकों को सुरक्षित बैंकिंग की सुविधा मिलेगी। एसबीआई का कहना है कि अगर लेनदेन कोई और कर रहा है, तो एसएमएस से ग्राहक को सूचना मिलने पर वह तुरंत समय रहते अपना डेबिट कार्ड ब्लॉक करा सकेगा।

एसबीआई ने अभी हाल ही में अपने खाताधारकों को दी यह राहत

भारतीय स्टेट बैंक SBI ने हाल ही में अपने 44 करोड़ से अधिक बचत खाताधारकों को राहत प्रदान करते हुए एसएमएस अलर्ट और न्यूनतम बैलेंस शुल्क खत्म कर दिए हैं। अब बैंक अपने ग्राहकों से एसएमएस अलर्ट और न्यूनतम बैलेंस के चार्ज नहीं नहीं लगा रहा है। यानी की SBI बैंक द्वारा ग्राहकों के लिए यह सेवा मुफ्त कर दी गई है। इसके अलावा बैंक ने ग्राहक के खाते से पंजीकृत मोबाइल नंबर पर बैकिंग सर्विस मैसेज के लिए लगने वाले शुल्क को को भी खत्म कर दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here