रूद्रप्रयाग। पिछले कई दिनों से क्षेत्र में हो रही बारिश और भूस्खलन के कारण रुद्रप्रयाग-गौरीकुंड राष्ट्रीय राजमार्ग बांसवाड़ा में आज मंगलवार को दूसरे दिन भी बंद रहा। पहाड़ी से रूक-रूककर लगातार हो रहे भूस्खलन होने के चलते मलबा हटाने का काम बाधित रहा। वहीं, गुप्तकाशी के समीप गौरीकुंड में राजमार्ग का करीब 50 मीटर हिस्सा धंस गया है, जिससे फाटा, सोनप्रयाग और गौरीकुंड का गुप्तकाशी से संपर्क कट गया है।

Uttarakhand: 5 आईएएस, 4 पीसीएस, सचिवालय सेवा, वित्त सेवा के 14 के विभागों में फेरबदल

यहां क्षेत्र में बीती सोमवार रात्रि को हुई मूसलाधार बारिश से कुंड-ऊखीमठ-चोपता-गोपेश्वर राजमार्ग समेत सात संपर्क मार्ग अवरूद्ध हो गए। एनएच द्वारा हल्के वाहनों के आवागमन के लिए पहाड़ी काटकर मार्ग तैयार किया जा रहा है। यातायात को विश्वनाथ मंदिर मार्ग से डायवर्ट किया गया है।

Uttarakhand COVID-19 Update: कोरोना के आज भी रिकार्ड 208 मामले, अब तक 8008

बारिश के कारण स्थिति और खराब हो गई है। यही नहीं गौरीकुंड राजमार्ग के धंसने से विद्याधाम मंदिर को भी खतरा उत्पन्न हो गया है। दूसरी तरफ बांसवाड़ा में दूसरे दिन मंगलवार को भी राजमार्ग बंद होने पर एनएच ने यातायात को बांसवाड़ा-बसुकेदार-गुप्तकाशी मोटर मार्ग पर डायवर्ट कर दिया, जिस कारण लोगों को 20 किमी अतिरिक्त सफर तय करना पड़ रहा है, लेकिन इस मार्ग की स्थिति भी वर्षा से खराब हो गई है।

एनएच रुद्रप्रयाग के अधिशासी अभियंता जितेंद्र कुमार त्रिपाठी ने कहा कि रुद्रप्रयाग-गौरीकुंड हाईवे पर बांसवाड़ा में पहाड़ी से भूस्खलन थमने का नाम नहीं ले रहा है। विद्याधाम में पहाड़ी से कटान कर हल्के वाहनों की आवाजाही के लिए सड़क तैयार की जा रही है।

Upsc Civil Services Examination: शुभम ने सिविल सेवा परीक्षा में ऑल इंडिया 43 रैंक की प्राप्त

इधर, बारिश से कुंड-ऊखीमठ-चोपता-गोपेश्वर राजमार्ग समेत सात संपर्क मार्ग बंद हो गए। कार्यदायी संस्थाओं ने छह सड़कों को यातायात के लिए खोल दिया, लेकिन सड़कों की हालत खस्ताहाल बनी है, जिससे दुर्घटना का खतरा हर समय बना हुआ है।

ऊखीमठ-मनसूना का करीब 30 मीटर हिस्सा भी ध्वस्त हो गया है। मस्तूरा-दिलमी मोटर मार्ग पर भूस्खलन का मलबा कुंड-ऊखीमठ-चोपता-गोपेश्वर राजमार्ग पर गिरने से दैड़ा में स्थिति खस्ताहाल बनी हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here