देहरादून। अब देश-विदेश के सभी लोग चारधाम यात्रा कर सकेंगे। प्रदेश सरकार ने इसके लिए चारधाम यात्रा की सशर्त अनुमति जारी कर दी है। वर्तमान में अभी तक सिर्फ उत्तराखण्ड वासियों को ही चारधाम यात्रा की अनुमति थी। सरकार के मुताबिक इस दौरान कोरोना महामारी को लेकर अन्य सामान्य आदेश भी लागू होंगे।

मुख्य कार्यकारी अधिकारी उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड रविनाथ रमन ने आज शुक्रवार को यह घोषणा की। उन्होंने बताया कि अब उत्तराखण्ड में बाहरी प्रदेशों के तीर्थ श्रद्धालुओं को भी चारधाम यात्रा पर आने की अनुमति होगी, लेकिन उत्तराखंड आने के 72 घंटे पहले तक की आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट उनके पास होनी चाहिए।

बताया कि इसके साथ ही वह यात्री एवं श्रद्धालु भी यात्रा कर सकेंगे, जो प्रदेश में पहुंचकर निर्धारित क्वारंटीन अवधि को पार कर चुके होंगे। यात्रा पर आने वाले सभी श्रद्धालु देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड की वेबसाइट पर पंजीकरण करेंगे। उन्हें पंजीकरण के साथ अपनी आईडी, कोविड 19 निगेटिव रिपोर्ट भी वेबसाइट पर अपलोड करनी होगी।

इसके अलावा वेबसाइट पर अपलोड किए गए दस्तावेजों की मूल प्रति अपने पास भी रखना अनिवार्य होगा। क्वारंटीन अवधि पूरी करने वाले श्रद्धालु वेबसाइट पर फोटो आईडी अपलोड कर अपना पास प्राप्त करेंगे और मंदिरों में जा सकेंगे। बताया गया है कि प्रदेश सरकार ने यह कदम सूबे में बंद पड़े तीर्थांटन व पर्यटन कारोबार को नये सिरे से खड़ा करने के उद्देश्य से उठाया है।

इधर, मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि प्रदेश के बाहरी राज्यों से यदि कोई कोविड विजेता उत्तराखंड में घूमने के लिए आना चाहता है तो उनके लिए किसी तरह की रोक नहीं होगी। उन्हें प्रदेश में आने की अनुमति दी जाएगी। इससे प्रदेश में पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा और कोरोना से जंग जीतकर स्वस्थ हो चुके लोग उत्तराखंड की आबोहवा का आनंद ले सकते हैं।

प्रदेश सरकार के मुताबिक कोरोना से जंग जीतने वालों की कोई जांच नहीं की जाएगी और न ही क्वारंटीन किया जाएगा। सरकार ने अन्य पर्यटकों के लिए 72 घंटे पहले आईसीएमआर से मान्यता प्राप्त लैब से जांच करने वाले पर्यटकों को प्रदेश में आने की अनुमति प्रदान की है। यदि कोई पर्यटक बिना जांच के लिए आता है तो उसे सात दिन के लिए होटल की बुकिंग करनी होगी और सात दिन तक होटल में रहना होगा। इसके बाद ही वह प्रदेश के अन्य क्षेत्रों में भ्रमण करने जा सकते हैं।

———————

उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड ने आज सोमवार को उत्तराखण्ड के लोगों के लिए चारधाम केदारनाथ, बदरीनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री दर्शन के लिए गाइडलाइन जारी कर दी है। प्रदेश के बाहर के राज्यों से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए अभी फिलहाल चारधाम यात्रा प्रतिबंधित की गई है

चारधाम दर्शन के लिए जारी गाइडलाइन की खास बातें

  • मंदिर में प्रवेश से पहले हाथ और पैर धोना होगा अनिवार्य।
  • यात्रा एवं दर्शन में शारीरिक दूरी, सैनिटाइजर रखने एवं मास्क पहनना होगा अनिवार्य।
  • सभी श्रद्धालुओं को धाम के विश्राम गृह में एक रात ही ठहरने की होगी अनुमति।
  • धामों के मंदिरों में बाहर से लाए गए प्रसाद और चढ़ावे पर रहेगी रोक।
  • चारधाम दर्शन के लिए ऑनलाइन ई-पास की व्यवस्था रहेगी।
  • प्रदेश में कंटेनमेंट, बफर जोन के किसी भी व्यक्ति को चारधाम में प्रवेश की नहीं होगी अनुमति।
  • धामों में देवी-देवताओं की मूर्तियों को स्पर्श करने पर रहेगा प्रतिबंधित।
  • कोरोना के चलते चारधाम में 65 वर्ष से अधिक आयु के बुजुर्ग, 10 साल से कम आयु के बच्चों को जाने की नहीं होगी अनुमति।
  • एक दिन में कितने पास जारी किए जाएंगे, यह अधिकार दिया है संबंधित जिले के जिलाधिकारियों को।
  • दूसरे राज्य से आने वाले श्रद्धालु को क्वारंटीन नियमों का पालन करने के बाद दर्शन की अनुमति।
  • आपातकालीन में जैसे सड़क बाधित, स्वास्थ्य परेशानी की दशा में जिला प्रशासन बढ़ा सकेगा अनुमति।
  • धाम क्षेत्र में होटल एवं अन्य परिसंपत्तियों की मरम्मत आदि के कार्य के लिए प्रशासन की अनुमति से आवाजाही कर एक दिन से ज्यादा रूक सकेंगे व्यवसायी।

यात्रियों की सुविधा के लिए हेल्प डेस्क

उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड ने यात्रियों की सुविधा के लिए हेल्प डेस्क भी बनाई है। यात्री किसी भी प्रकार की दिक्क्त होने पर हेल्प डेस्क के नंबर 7060728843, 9758133933 पर सम्पर्क कर सकते हैं।

यहाँ से करें ऑनलाइन ई-पास के लिए आवेदन

https://badrinath-kedarnath.gov.in

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here