यदि आप देवभूमि उत्तराखण्ड में स्थित श्री बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री एवं यमुनोत्री धाम में पूजा एवं दर्शन करना चाहते हैं तो अब आप बगैर इन धामों में पहुंचकर घर से ही यह कार्य संपन्न कर सकते हैं।

लॉकडाउन की वजह से चारधाम यात्रा को फिलहाल बंद रखने के साथ मंदिरों में श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक है। ऐसे में देश-विदेश के श्रद्धालु इन धामों के दर्शन एवं पूजा से वंचित चले आ रहे हैं।

देश-विदेश के चारधाम यात्रा श्रद्धालुओं की सुविधा को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार देवभूमि उत्तराखण्ड में स्थित चार धामों में पूजा एवं दर्शन की व्यवस्था को अब ऑनलाइन करने जा रही है। यहां राजधानी में आज चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड की पहली बैठक में सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने अधिकारियों को यह व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

यह खबर भी पढ़ें- प्रदेश में बढ़े कोरोना के पांच नये मामले, संख्या पहुंची 151

बैठक में तय किया गया कि ऑनलाइन पूजा के दौरान किसी भी मंदिर के गर्भगृह को नहीं दिखाया जाएगा। इस नई व्यवस्था के तहत जो श्रद्धालु पूजा-अर्चना करना चाहते हैं, उनको मंदिर परिसर के दर्शन एवं ऑडियो के माध्यम से पूजा करवाई जाएगी।

इस बैठक में सीएम ने स्पष्ट किया कि चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड में सभी हक-हकूकों का पूरा ख्याल रखा जाएगा। बैठक में इस बात पर भी चर्चा की गई कि विभिन्न मंदिरों में ऐतिहासिक महत्व की सामग्री, पांडुलिपियों को संरक्षित रखने के लिए संग्रहालय बनाया जाए।

बैठक में पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज, विधायक गंगोत्री गोपाल सिंह रावत, महेंद्र भट्ट विधायक बदरीनाथ, सीएस उत्पल कुमार सिंह, सचिव पर्यटन एवं संस्कृति दिलीप जावलकर, सचिव वित्त सौजन्या के अलावा बोर्ड से जुड़े अधिकारी आदि उपस्थित रहे।

 यह भी जानें- उत्तराखण्ड: विश्वविद्यालयों, महाविद्यालयों में होंगे एक सितंबर से प्रवेश शुरू

चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड बैठक के प्रमुख फैसले

– मुख्य कार्यकारी अधिकारी को अधिकृत करते हुए मंदिरों निधि एवं संपत्ति, कीमती सामग्री को बोर्ड के प्रबंधन के अधीन लाया जाएगा।
– प्रबंधन बोर्ड का होगा अलग बैंक खाता, जिसके लिए की राज्य सरकार ने 10 करोड़ की धनराशि स्वीकृत।
– बदरी-केदार मंदिर समिति की अवशेष धनराशि भी देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड में ट्रांसफर होगी।
– बदरी-केदार मंदिर समिति कार्मिकों का समायोजन बोर्ड में होगा।
– बोर्ड के लिए एसीईओ की नियुक्ति एवं वित्त नियंत्रक का एक पद सृजित।
– बोर्ड में विभिन्न न्यायिक मामलों के निस्तारण को ट्रिब्यूनल बनेगा।
– बदरी-केदार मंदिर समिति के लिए बनाई वेबसाइट का एनआईसी अधिग्रहण के बाद करेगा उसे अपग्रेड।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here