उत्तरकाशी। वैसे तो नेहरू इंस्टीट्यूट ऑफ माउंटेनियरिंग (निम) के नाम प्रदेश में ही नहीं बल्कि देश में कई रिकार्ड शामिल हैं, लेकिन पर्वतारोहण के मामले में निम की टीम की खासी महत्वपूर्ण भूमिका है। इस बार निम के छह सदस्यीय पर्वतारोही दल ने जिले के हर्षिल क्षेत्र स्थित एक अनाम चोटी पर तिरंगा फहराने में सफलता हासिल की है। इस अभियान के तहत अब यह दल 5280 मीटर ऊंची चोटी पर आरोहण की तैयारी में जुट गया है।

अभी हाल ही में हॉर्न ऑफ हर्षिल अभियान के तहत Nehru Institute of Mountaineering के पांच सदस्यीय दल ने 4823 मीटर ऊंची इस अनाम चोटी पर चढ़ने में सफलता अर्जित की है। अपनी इस उपलब्धि पर पर्वतारोही दल में खासा उत्साह बना हुआ है। यह दल अब आगे के अभियान के लिए जुट गया है।

 जानें-  चारधाम दर्शन को गाइडलाइन जारी,एक जुलाई से दर्शन,यहाँ से करें ई-पास के लिए आवेदन 

विदित हो कि बीते वर्ष नवंबर माह में हर्षिल सेबोत्सव के दौरान प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हॉर्न ऑफ हर्षिल अभियान का विधिवत शुभारंभ किया था। तत्कालीन समय में क्षेत्र में भारी बर्फबारी के कारण Nim के अधिकारियों को यह अभियान स्थगित करना पड़ा था। इसके बाद Nehru Institute of Mountaineering और प्रशासन ने कुछ दिन पहले अभियान को फिर से शुरू करने का इरादा किया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बीती 21 जून को निम के प्राचार्य कर्नल अमित बिष्ट के कुशल नेतृत्व में लेफ्टिनेंट कर्नल योगेश धूमल, हवलदार थिलनैस ग्याल्पो, शिवराज सिंह पंवार, सूबेदार चतर सिंह और सौरभ सिंह ने इस अभियान की हर्षिल से शुरूआत की। आरोहण करते हुए छोलमी और पंचमुखी महादेव होते हुए इस दल ने राता स्की एरिया के निकट अपना बेस कैंप स्थापित किया।

जानें-  कोरोना के आज मिले 8 मामले, अब तक 2831

बेस कैंप से बीते रविवार की सुबह उन्होंने समुद्र तल से 4823 मीटर की ऊंचाई पर स्थित अनाम और अनारोहित चोटी पर तिरंगा फहराकर इस चोटी का आरोहण किया। टीम लीडर और Nim के प्राचार्य कर्नल बिष्ट ने अनुसार उत्तराखण्ड सरकार से विचार-विमर्श करने के बाद इस अनाम चोटी का नामकरण किया जाएगा।

कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना के चलते इस वर्ष ट्रैकिंग और माउंटेनियरिंग गतिविधियां पूरी तरह से प्रभावित हुई हैं। उन्होंने आशा जताई कि इस अभियान के बाद अब इन गतिविधियों को बल मिलेगा। उन्होंने NIM की पूरी टीम को इसके लिए बधाई दी।

  यह भी जानें- इनकम टैक्स के अधिकारी को सीबीआई कोर्ट ने सुनाई 10 साल की सजा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here