देहरादून। मौजूदा समय में बीते माह मार्च से स्कूल बंद होने के चलते बच्चों का पाठ्यक्रम पूरी तरह से प्रभावित हो गया है। ऐसे में सरकार ने पाठ्यक्रम कम करके बच्चों को राहत देने का काम किया है। सूबे के शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने कहा कि उत्तराखण्ड में एनसीईआरटी पाठ्यक्रम को 30 फीसदी कम किया जाएगा। राज्य में कोरोना के प्रकोप को देखते हुए राज्य सरकार की ओर से यह निर्णय लिया गया है।

शिक्षा मंत्री श्री पांडे ने कहा कि केंद्र सरकार के दिशा-निर्देश पर पाठ्यक्रम कम किया जाएगा। उन्होंने विभागीय अधिकारियों को इस सबंध में निर्देश दिए हैं। इसके मुताबिक NCERT के साथ ही विभिन्न स्कूलों में इससे अलग जो पुस्तकें पढ़ाई जा रही हैं उसके पाठ्यक्रम को भी 30 फीसदी कम किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि इस व्यवस्था से बच्चों अभिभावकों और शिक्षकों को राहत मिल सकेगी। शिक्षा मंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते स्कूल बंद हैं और बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाया जा रहा है। इससे कहीं ना कहीं बच्चों की पढ़ाई पर असर पड़ा है। यही वजह है कि बच्चों और शिक्षकों को राहत देने के लिए सरकार की ओर से यह कदम उठाया जा रहा है। बगैर स्कूल संचालन के पाठ्यक्रम को कम करके सरकार ने काफी हद तक राहत देने का काम किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here