Home हमारा उत्तराखण्ड देहरादून एम्स ऋषिकेश में प्रवेश पर मास्क जरुरी, पड़ेगा 500 रुपए जुर्माना

एम्स ऋषिकेश में प्रवेश पर मास्क जरुरी, पड़ेगा 500 रुपए जुर्माना

0
31
एम्स ऋषिकेश में प्रवेश पर मास्क जरुरी, पड़ेगा 500 रुपए जुर्माना
  • मरीज व तीमारदार ही नहीं चिकित्सकों व कर्मचारियों पर भी लगेगा अर्थदंड

कोविड-19 के विश्वव्यापी प्रकोप व मरीजों की लगातार बढ़ती संख्या को मद्देनजर रखते हुए एम्स प्रशासन ने कोविड-19 विजिलेंस टीम का गठन किया है। जो कि संस्थान के भीतर लोगों के मास्क पहनने के तरीके एवं अनिवार्य रूप से मास्क पहनना सुनिश्चित करेगी। बताया गया है कि एम्स परिसर में यदि कोई भी मरीज, उनके तीमारदार अथवा हॉस्पिटल स्टाफ, कर्मचारी, स्टूडेंट्स, चिकित्सक बिना मास्क पहने दिखाई देते हैं या उन्होंने मास्क को ठीक तरीके से नहीं पहना हुआ है। तो ऐसे लोगों पर विजिलेंस टीम द्वारा 500 रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा।

गौरतलब है कि गत वर्ष कोविड-19 संक्रमण की शुरुआत में एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत की देखरेख में जनजागरुकता के लिए कोविड-19 कम्युनिटी टास्क फोर्स का गठन किया गया था। जिसके बाद से टास्क फोर्स लगातार कम्युनिटी के मध्य कोरोना वायरस को लेकर जनजागरुकता मुहिम चला रही है। साथ ही नगर व आसपास के ग्रामीण इलाकों में गांवों, मलिन बस्तियों, सरकार-गैर सरकारी विद्यालयों में नागरिकों व विद्यार्थियों को कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर जागरुक करने के साथ ही समय समय पर मास्क एवं सेनेटाइजर का वितरण सततरूप से किया जा रहा है।

कोविड-19 कम्युनिटी टास्क फोर्स के नोडल ऑफिसर की निगरानी में गठित विजिलेंस टीम पिछले दो दिनों से एम्स अस्पताल परिसर में लोगों को मास्क अनिवार्यरूप से मास्क लगाने व मास्क को ठीक तरीके से धारण करने को लेकर लोगों को जागरुक कर रही है। नोडल ऑफिसर डा. संतोष ने बताया कि मुहिम के दौरान डीन एकेडमिक प्रो. मनोज गुप्ता ने भी परिसर में बिना मास्क घूम रहे कई लोगों को मास्क अनिवार्यरूप से पहनने के लिए प्रेरित किया और इसको लेकर लापरवाही बरतने पर होने वाले नफानुकसान के प्रति लोगों को आगाह किया।

उन्होंने एम्स में प्रवेश करने वाले मरीज, उसके साथी व अन्य लोगों से अपील की है कि वह अस्पताल परिसर में अनिवार्यरूप से मास्क पहनकर ही दाखिल हों और मास्क को ठीक तरह से लगाएं। साथ ही बताया गया है कि यदि संभव हो तो घर से बाहर निकलने, भीड़भाड़ वाले इलाकों में जाने पर डबल मास्क का प्रयाेग करें। उनका कहना है कि तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस के संक्रमण से अब डबल मास्क की आवश्यकता आन पड़ी है।

बताया गया कि कोई भी व्यक्ति पहले सर्जिकल मास्क को भीतर पहनें व उसके बाहर से कपड़े का मास्क लगाएं, जिससे कि इन्फेक्शन होने की आशंका को निरमूल किया जा सके। उन्होंने ऋषिकेश नगरवासियों से भी अपील की है कि वह अपनी सुरक्षा का खयाल रखें व सही तरीके से मास्क को धारण करें। कोविड-19 से लड़ने के लिए वर्तमान समय में हमारे पास सबसे बड़े सुरक्षा कवच हैं मास्क व कोविड 19 टीकाकरण।

लिहाजा सभी लोग जल्द से जल्द टीका अवश्य लगाएं और टीकाकरण के बाद भी मास्क को अनिवार्य रूप से धारण करें। घर से बाहर निकलने से पहले जिस तरह से कोई भी व्यक्ति अपनी वेशभूषा को धारण करता है ठीक उसी तरह से मास्क को भी अपनी दिनचर्या का हिस्सा बना लें। नोडल ऑफिसर ने बताया कि संस्थान में मास्क को लेकर लापरवाही बरतने वाले लोगों पर 500 रुपए जुर्माने की कार्रवाई की जाएगी।

इस दौरान कोविड-19 कम्युनिटी टास्क फोर्स के सदस्यों ने संस्थान परिसर में लोगों को मास्क लगाने के तौर तरीके बताए व मास्क की अनिवार्यता को लेकर उन्हें जागरुक किया। मुहिम के दौरान टीम में डा. विनोद, कॉलेज ऑफ नर्सिंग की असिस्टेंट प्रोफेसर राखी मिश्रा, डा. कौशल, सेनेट्री इंस्पैक्टर सचिन आदि मौजूद थे।

No comments

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

error: Content is protected !!