हरिद्वार। यहां वर्ष 2021 में होने जा रहा कुंभ मेले का आयोजन सिर्फ 48 दिन का ही होगा। प्रदेश के शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि कुंभ का आयोजन मुख्य तौर पर मार्च से अप्रैल के बीच किया जाएगा। सरकार फरवरी अंत में मेले की विधिवत अधिसूचना जारी करेगी। कोरोना वायरस को लेकर सरकार ने इसकी तैयारी की है।

इधर, प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के निर्देश पर शासन ने कुंभ मेला 2021 के कोविड केयर सेंटर, सर्विलांस सिस्टम और चिकित्सकीय व्यवस्थाओं की खरीद के लिए 14 करोड़ 29 लाख रुपये जारी कर दिए हैं। कुंभ में सर्विलांस सिस्टम लगाने के लिए पहली किस्त के रूप में 6.94 करोड़ की धनराशि जारी की गई है।

सर्विलांस सिस्टम के लिए राज्य सरकार ने 17.34 करोड़ मंजूर कर रखे हैं। शासन को कुंभ मेला में 1000 बेड का अस्थाई कोविड केयर सेंटर बनाना है। इसके लिए मुख्यमंत्री ने 15.46 करोड़ की मंजूरी दी है।

स्वीकृत धनराशि में कोविड सेंटर के लिए 6.18 करोड़ की धनराशि शुक्रवार को जारी कर दी गई। कुंभ मेला में चिकित्सकीय व्यवस्थाओं की सामग्री खरीद के लिए 2.93 करोड़ में से 1.17 करोड़ रुपये जारी किए गए हैं।

आईजी कुंभ संजय गुंज्याल ने आगामी कुंभ मेला की व्यवस्थाओं को लेकर श्री गंगा सभा के पदाधिकारियों के साथ गोष्ठी की। पदाधिकारियों के सुझाव सुनने के बाद आईजी ने कहा कि शाही स्नान के दौरान सामान्य श्रद्धालुओं को हरकी पैड़ी एवं मालवीय द्वीप घाट को छोड़कर अन्य घाटों पर स्नान कराने की व्यवस्था पूर्ववत रहेगी।

आईजी ने कहा कि मेला आयोजन में गंगा सभा महत्वपूर्ण स्टेक होल्डर है। मेला आयोजन के लिए उनके सुझाव बेहद जरूरी हैं। कहा, हरकी पैड़ी को जूता रहित बनाने का प्रयास होगा। हरकी पैड़ी पर ड्यूटी करने वाले पुलिस कर्मियों को भी बिना चमड़े वाले जूते और बेल्ट उपलब्ध कराई जाएगी।

श्री गंगा सभा के पदाधिकारियों ने मकर संक्रांति के स्नान पर्व की व्यवस्थाओं और मेले के दौरान दिए जाने वाले पास के संबंध में जानकारी पूछी। इस पर आईजी ने कहा कि शाही स्नान से पूर्व आने वाले सभी स्नानों पर मेला पुलिस अपनी तरफ से पूर्ण तैयारी करके सकुशल स्नान संपन्न कराएगी। पास का जिक्र करते हुए आईजी ने कहा कि मेले की अधिसूचना जारी होने पर स्थानीय लोगों के सुगम आवागमन के लिए पास बनाए जाएंगे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here