अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, एम्स ऋषिकेश में भारत सरकार की गाइडलाइन के तहत कोविड19 वैक्सिनेशन को लेकर आयोजित बैठक में एम्स प्रशासन ने इसकी रूपरेखा पर चर्चा की। संस्थान में कोरोना वायरस की रोकथाम को लेकर किए जाने वाले वैक्सिनेशन के कार्य के व्यवस्थित संचालन के लिए निदेशक एम्स पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत की देखरेख में कमेटी का गठन भी किया गया है। जिसमें विभिन्न विभागों के चिकित्सकों को शामिल किया गया है।

मंगलवार को एम्स में निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत की अगुवाई में कोविड-19 वैक्सिनेशन की तैयारियों को लेकर बैठक आयोजित की गई। इस अवसर पर निदेशक एम्स ने बताया कि भारत सरकार की दिशा निर्देश के तहत पहले चरण में हैल्थ केयर वर्कर चिकित्सक, नर्सिंग ऑफिसर्स व अन्य सहायक स्टाफ मेंबर्स को कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए वैक्सीन लगाई जाएगी।

उन्होंने बताया कि संस्थान में प्रथम चरण के वैक्सिनेशन के कार्य के लिए एक भवन को चिह्नित कर लिया गया है। निदेशक प्रो. रवि कांत ने बताया कि संस्थान में कोविड वैक्सिनेशन का कार्य जनवरी-2021 के अंतिम सप्ताह से शुरू होने की संभावना है। इसके मद्देनजर उन्होंने संबंधित चिकित्सकों को वैक्सिनेशन के लिए सभी तैयारियां एक सप्ताह में पूर्ण कराने के निर्देश दिए हैं।

बैठक में एम्स निदेशक की देखरेख में वैक्सिनेशन के लिए समिति का गठन किया गया। जिसकी चेयरपर्सन सीएफएम विभागाध्यक्ष प्रोफेसर वर्तिका सक्सेना हैं जबकि कम्युनिटी एंड फेमिली मेडिसिन विभाग के डा. योगेश बहुरुपी,डा. महेंद्र सिंह, डा. अजीत भदौरिया, डा. मीनाक्षी खापरे, डा. संतोष कुमार, डा. स्मिता सिन्हा, क्रिटिकल केयर विभाग के डा. अंकित अग्रवाल, फार्माकोलॉजी विभाग के डा. पुनीत धमीजा, एनाटॉमी विभाग की डा. गीतांजलि खोरवाल, जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल व मुख्य सुरक्षा अधिकारी पीएस राणा को इस कमेटी का सदस्य नामित किया गया है।

कमेटी के सलाहकार मंडल में डीन एकेडमिक प्रोफेसर मनोज गुप्ता जी,मेडिकल सुपरिटेंडेंट प्रो. लतिका मोहन जी व डीन हॉस्पिटल अफेयर्स प्रो. यूबी मिश्रा जी को शामिल किया गया है। बैठक में मेडिकल एजुकेशन विभागाध्यक्ष प्रोफेसर शालिनी राव,फार्माकोलॉजी विभाग की डा. मनीषा बिष्ट, अस्पताल प्रशासन की डा. अनुभा अग्रवाल आदि मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here