नरेन्द्रनगर। ऋषिकेश-गंगोत्री राजमार्ग पर शुक्रवार तड़के आज एक दर्दनाक हादसा हो गया। हिंडोलाखाल में ऑल वेदर रोड का एक बड़ा पुश्ता एक घर के ऊपर गिर गया, जिसमें कमरे में सो रहे तीन भाई बहिन जिंदा दफन हो गए। यही नहीं पत्थरों की चपेट में उनके पिता धर्म सिंह भी आ गए। रक्षा बंधन से पहले हुए इस हादसे से पूरा परिवार सदमे में आ गया है।

घटना के बाद एसडीआरएफ की टीम और स्थानीय लोगों ने बचाव राहत का काम किया। मलबे से तीनों मृतकों के शव निकाले जा चुके हैं। मौके पर पहुंचे सूबे के कृषि मंत्री सुबोध उनियाल ने इस घटना के प्रति गहरा दुःख जताते हुए पीड़ित परिवार को सांत्वना दी और पीड़ित परिवार को हरसंभव मदद का भरोसा दिया।

शुक्रवार तड़के आज सुबह ऋषिकेश-गंगोत्री राजमार्ग पर विकासखण्ड नरेन्द्रनगर के हिंडोलाखाल के खेड़ागाड़ गांव में बारिश के चलते राजमार्ग के ऊपर का एक बड़ा पुश्ता मार्ग के नीचे स्थित धर्म सिंह के मकान के ऊपर गिर गया। धर्म सिंह शौच के लिए मकान से बाहर निकले ही थे कि उनके दो मंजिला मकान मलबे के साथ दफन हो गया, जिससे घर में सो रहे तीनों भाई बहन मलबे में जिंदा दफन हो गए। मृतकों में धर्म सिंह के दो बच्चे और उनके साडू की एक बेटी शामिल है।

इस दौरान कमरे में सो रहे तीनों भाई-बहनों को इससे पहले कि कुछ पता चलता देखते ही देखते धर्म सिंह नेगी का पुत्र अंकित (18 वर्ष) और विनीता (25 वर्ष) के साथ ही उनके साडू देवली निवासी (नरेंद्रनगर) कमल सिंह की लड़की नीलम (18 वर्ष) मलबे में दब गए। इस घटना में पत्थरों की चपेट में आकर धर्म सिंह को भी चोटें आई हैं। घटना की सूचना के बाद पांच बजे मौके पर पहुंची पुलिस, फायर ब्रिगेड, आपदा राहत दल और एसडीआरएफ की टीम ने राहत एवं बचाव कार्य किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here