डा0 महेश भट्ट
आजकल बरसात का मौसम चल रहा है, साथ ही साथ कोरोना भी। वैसे भी देखा जाय तो बरसात में अनेक प्रकार के रोगों की बहुतायत हो जाती है, जैसे पेट खराब होना, उल्टी दस्त, मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया, पीलिया इत्यादी रोग बरसात के मौसम में ज्यादा होते हैं।

इसका कारण बरसात में मच्छरों का पनपना, प्रदूषित जल, प्रदूषित खाद्य पदार्थ एवं अत्यधिक आर्द्रता होते हैं। ऐसी अवस्था में हमने पिछले हफ्ते के लेख में जाना कि मच्छरों से कैसे बचें। इस हफ्ते बात करेंगे कि इस मौसम में स्वस्थ रहने के लिए छोटी छोटी किन चीजों को अपनाया जाए।

सबसे पहले पीने के पानी की स्वच्छता पर ध्यान देने की जरूरत है, यदि आपके घर में आरओ या फिल्टर नहीं हैं तो आप पानी को उबाल कर और फिर ठंडा करके ही पियें। पानी नल का या स्रोत का जहां से भी हो उसको साफ बर्तन में स्टोर करें और निकलने के लिए लम्बे हत्थे युक्त बर्तन का प्रयोग करें। बार बार पानी में हाथ न डालें।

दूसरी बहुत जरूरी सावधानी खान पान पर जरूरी है। यह तो हम सब जानते हैं कि हाथ धोने हैं, वैसे भी कोरोना से बचने के लिए ये जरूरी है, इसके साथ ही साथ सब्जियों एवं फलों को भी पानी से अच्छी तरह धोने के बाद प्रयोग करें। तीसरी अहम सावधानी अपने आस पास सफाई रखने की है।

सफाई से मच्छरों के अलावा अन्य प्रकार के कीड़े मकोड़ों से बचाव होगा। इसके साथ ही साथ ये बहुत जरूरी है कि बासी खाने को न खाया जाय। खाना फ्रेश हो एवं गरम हो। ज्यादा मसालेदार एवं तले खाद्य पदार्थों से बचा जाय। इन कुछ छोटी-छोटी बातों का ध्यान रख कर हम बारिश के मौसम का स्वस्थ आनन्द ले सकते हैं।
(सर्जन, लेखक, सार्वजनिक स्वास्थ्य सलाहकार) एमडी एमएमबीएचएस ट्रस्ट एवं अध्यक्ष विज्ञान भारती, उत्तराखण्ड

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here