देहरादून। प्रदेश में मनरेगा श्रमिकों के लिए खुशखबरी है। प्रदेश सरकार ने मनरेगा योजना के तहत काम करने वाले श्रमिकों की मजदूरी 182 रूपए से बढ़ाकर 201 रूपए कर दी है।

सरकार के इस निर्णय से सूबे के करीब दो लाख से अधिक श्रमिकों को इसका लाभ मिलेगा।

वैश्विक महामारी कोरोना के चलते ग्रामीण क्षेत्र की अर्थव्यवस्था को राहत प्रदान करने के लिए सरकार ने यह निर्णय लिया है। मनरेगा की मजदूरी में पहली बार संभवतया एक बार में 19 रूपए का इजाफा किया गया है। इससे पूर्व एक से पांच रूपए तक की ही बढ़ोत्तरी की जाती रही है।

यह खबर भी पढ़ें-  लॉकडाउन राहत: प्रदेश में ऑड-ईवन की व्यवस्था समाप्त

उल्लेखनीय है कि राज्य में मनरेगा का काम कोरोना महामारी के चलते जारी लॉकडाउन के तहत बीते मार्च माह में ठप्प हो गया था। इस बीच ग्रामीण श्रमिकों को राहत देने के लिए लॉकडाउन के बीच ही बीते 20 अप्रैल से इस योजना के तहत कार्य शुरू कराए गए थे।

राज्य के मनरेगा के नोडल विभाग के मुताबिक बुधवार तक मनरेगा में काम करने वाले कामगारों की संख्या दो लाख तक पहुंच गई। इस बीच नये पंजीकरण के तहत 6657 नये जॉब कार्ड जारी किए गए हैं।

यह खबर भी पढ़ें- सिविल सर्विसेज प्रीलिम्स परीक्षा की नयी तिथि घोषित

प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्तमान में राज्य में इस योजना के तहत करीब साढ़े सात लाख एक्टिव जॉब कार्ड धारक हैं।

राज्य नोडल अधिकारी मनरेगा मोहम्मद असलम ने बताया कि राज्य में मनरेगा में काम करने वाले श्रमिकों को अभी तक 182 रुपये की मजदूरी दी जा रही थी, जिसे अब बढ़ाकर 201 रुपये कर दिया गया है।

यह खबर भी पढ़ें- उत्तरकाशी एवं टिहरी में कोरोना के दो मामले आए, संख्या पहुंची 122

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here