रुद्रप्रयाग। जिले के अगस्त्यमुनि विकासखंड के तल्ला नागपुर पट्टी के कोठगी, भटवाड़ी, मदोला, छिनका आदि गांवों के लिए अच्छी खबर है। इन गांवों को जोड़ने वाले रुद्रप्रयाग-सणगू-सारी मोटर मार्ग के भूस्खलन जोन वाला हिस्सा जो अब तक अवरोध बना हुआ था, उसका वैज्ञानिक विधि से एलाइनमेंट बदलकर स्थायी ट्रीटमेंट कर देने के बाद अब कोठगी, भटवाड़ी, मदोला, छिनका आदि गांवों की गौचर से दूरी महज 10 से 12 किमी के बीच रह गई है। जबकि पूर्व में इस क्षेत्र के ग्रामीणों को रुद्रप्रयाग होते हुए लगभग 40 किमी का सफर तय कर गौचर पहुंचना होता था।

यह भी जानें- एम्स ऋषिकेश में कोरोना रोगियों को पोर्टेबल बेडसाइड ब्रोकोस्कोपी की सुविधा शुरू

यही नहीं इसके साथ ही अब, यह सड़क ऑल वेदर रोड परियोजना व अन्य विषम परिस्थितियों में ऋषिकेश-बदरीनाथ हाईवे के बाईपास के विकल्प रूप में भी उपयोग में लाया जा सकेगा।

पीएमजीएसवाई द्वारा इस सड़क के निर्माण के लिए एलाइनमेंट बदलने का निर्णय लिया गया। विभाग ने करीब 90 लाख रुपये में मार्ग के इस प्रभावित क्षेत्र के ट्रीटमेंट के लिए लगभग आधा किमी पहले सड़क का एलाइनमेंट बदलकर पांच सौ मीटर नई सड़क की कटिंग की गई।

यह भी जानें- प्रदेश में कोरोना के मिले 64 मामले, अब तक 3048

इसके बाद, प्रभावित हिस्से पर वैज्ञानिक विधि से आरसीसी पुश्तों का निर्माण कर सड़क को दूसरे छोर पर मिलाया गया है, जिससे अब इस मार्ग से सारी गांव से गौचर तक सड़क का संपर्क हो गया है। 29 किमी लंबाई के इस मोटर मार्ग पर पीएमजीएसवाई द्वारा 1575.57 लाख में डामरीकरण कर हॉटमिक्स भी कर दिया गया है। वर्ष 2016 में रुद्रप्रयाग-सणगू-सारी मोटर मार्ग छिनका गांव तक ही बन पाया था।

पीएमजीएसवाई रुद्रप्रयाग के सहायक अभियंता विजयपाल सिंह नेगी ने बताया कि रुद्रप्रयाग-चोपड़ा-सणगू-सारी मोटर मार्ग के प्रभावित भाग का ट्रीटमेंट कर दिया गया है। साथ ही इस पूरे मार्ग का डामरीकरण कर हॉटमिक्स से बना दिया गया है। बताया कि अब यह मार्ग गौचर से कनेक्ट हो गया है।

यह भी जानें- एम्स के कोविड वार्ड की क्षमता हुई 200 बेड, दो आईसीयू के साथ 30 वेंटिलेटर की सुविधा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here