देहरादून। यहां डोईवाला एवं  भानियावाला क्षेत्र में आज लड़ाकू विमानों की तेज आवाजों से लोग घरों से निकलकर बाहर छतों पर उन्हें देखने के लिए निकल आए। यहां देहरादून जौलीग्रांट एयरपोर्ट से शुक्रवार को आज चार लड़ाकू विमानों ने आवाजाही की।

विदित हो कि इससे पूर्व भारतीय वायुसेना के विमानों ने पिछले लगभग तीन वर्ष पहले भी कई बार यहां से उड़ान भरी थी। जौलीग्रांट एयरपोर्ट के मैनेजर सुमित सक्सेना ने बताया कि आज एयरपोर्ट पर लड़ाकू विमान आए थे, कुछ देर रुकने के बाद वापस चले गए।

लड़ाकू विमान यहां किस उद्देश्य से आए थे इस बारे में कुछ भी पता नहीं लग पाया है। विमान के साथ आए जवानों ने भी इस संबंध में कोई जानकारी नहीं दी।

दूसरी ओर चीन सीमा पर बढ़ते तनाव को देखते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अधिकारियों को सीमांत क्षेत्र विकास योजना को तबज्जो देने के निर्देश दिए हैं। सरकार ने सीमांत क्षेत्र विकास योजना के तहत केंद्र सरकार की ओर से पिथौरागढ़, चमोली एवं उत्तरकाशी आदि जिलों के लिए अलग से धनराशि उपलब्ध कराई जाती है।

इस योजना के साथ ही प्रदेश सरकार ने अपने स्तर से भी मुख्यमंत्री सीमांत क्षेत्र विकास योजना लागू की है। सीएम ने कहा कि इन दोनों योजनाओं के तहत अधिक से अधिक विकास कार्य सीमांत क्षेत्र में किए जाने के निर्देश दिए गए हैं।

विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्ष 2019-20 के लिए राज्य सरकार ने सीमांत क्षेत्र विकास योजना के तहत लगभग 35 करोड़ रुपये के बजट का प्रावधान किया गया था। इसके बाद अनुपूरक में इसमें करीब 20 करोड़ रुपये और बढ़ाए गए। इसमें से अभी तक करीब 36 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here