मसूरी। पहाड़ों की रानी मसूरी में शिफन कोर्ट से बेघर हुए लोगों और आप पार्टी के कार्यकर्ताओं ने सोमवार को आज नगर पालिका प्रशासन के खिलाफ गांधी चैक पर जमकर प्रदर्शन किया। बाद में लोगों के द्वारा निकाली जा रही विरोध रैली को पुलिस ने रोका। इस दौरान पुलिस और आप पार्टी के कार्यकर्ताओं के बीच तीखी नोकझोंक हुई।

विदित हो कि मसूरी में शिफन कोर्ट में सरकारी भूमि पर बस्ती बसी हुई है और कुल 84 परिवार यहां रह रहे थे। इस मामले में कोर्ट की ओर से जारी स्टे की अवधि समाप्त होने के बाद पुलिस-प्रशासन की टीम ने अतिक्रमण हटाओ अभियान शुरू किया, जिसके विरोध में प्रभावित लोग और आप पार्टी के कार्यकर्ता आज सोमवार को सड़कों पर उतर आए।

आज सोमवार को निकाली गई विरोध रैली में पुलिस और आप पार्टी के कार्यकर्ताओं के बीच कई बार तीखी नोकझोंक हुई। इस दौरान पुलिस ने आप पार्टी के मसूरी विधानसभा प्रभारी नवीन प्रसाली को हिरासत में ले लिया। जिसके बाद प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की जीप के आगे लेटकर पुलिस का घेराव किया और पुलिस-प्रशासन व सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

इसके बाद आप पार्टी के कार्यकर्ताओं ने मसूरी नगर पालिका का घेराव किया। पालिका अध्यक्ष अनुज गुप्ता पर गरीब विरोधी नीति अपनाने का आरोप लगाया। आप पार्टी का विरोध देखते हुए नगर पालिका परिसर में प्रशासन द्वारा भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। मसूरी में शिफन कोर्ट से बेघर हुए लोगों के समर्थन में कई लोगों के आ जाने से पुलिस-प्रशासन के लिए अतिक्रमण हटाना किसी चुनौती से कम नजर नहीं आ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here