प्रदेश सरकार चारधाम यात्रा शुरू करने की तैयारी में जुट गई है। राज्य में स्थित चारधाम श्री बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री एवं यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने के बाद भी अभी लाॅकडाउन के चलते श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक है।

ऐसे में अब अनलॉक-1 के दौरान सूबे में पर्यटन और धार्मिक गतिविधियों को खोलने की छूट मिल गई है। आगामी आठ जून के बाद सरकार सीमित संख्या में चारधाम यात्रा को शुरू करेगी।

कोरोना अपडेट-  प्रदेश में आज मिले 38 मामले, संख्या पहुंची 1341

सरकार के प्रवक्ता एवं शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि आने वाली 8 जून से प्रदेश में चारधाम यात्रा को शुरू किया जाएगा, लेकिन फिलहाल यात्रा की शुरुआत सीमित संख्या से होगी।

उन्होंने बताया कि दूसरे राज्यों से बसों के संचालन की अनुमति मिलने के बाद चारधाम यात्रा को प्रदेश के बाहरी राज्यों के श्रद्धालुओं एवं पर्यटकों के लिए खोला जाएगा।

मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजनाः  यहां से करें आॅनलाइन आवेदन

बसों के संचालन के लिए सरकार कई राज्यों के साथ बातचीत कर रही है। कहा कि राज्यों की आपसी सहमति के बाद इंटर स्टेट बसों का संचालन शुरू किया जाएगा।

————————–

केन्द्र सरकार द्वारा अनलाॅक-1 में आगामी 8 जून से पर्यटन और तीर्थाटन गतिविधियों को छूट देने के साथ ही प्रदेश में पिछले तीन माह से बंद पड़े पर्यटन व्यवसाय और धार्मिक गतिविधियों का संचालन अब शुरू हो पाएगा।

यही नहीं इससे प्रदेश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ चारधाम यात्रा को भी पंख लगेंगे। केन्द्र सरकार से इस संबंध में गाइडलाइन मिलने के बाद राज्य सरकार चरणबद्ध ढंग से विभिन्न गतिविधियां प्रारंभ करेगी। बताया जा रहा है कि चारधाम यात्रा को लेकर सरकार की सभी तैयारियां पूरी हैं।

बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से बीती शनिवार को जारी लॉकडाउन 5.0(अनलॉक-1) के पहले चरण में आगामी 8 जून से शॉपिंग मॉल, होटल एवं रेस्टोरेंट, धार्मिक स्थलों और आतिथ्य सेवाएं खोलने की छूट दी है।

बिग ब्रेकिंगः  जंगल की गुफा में मिला लापता एनएसजी कमांडो

विदित हो कि कोरोना महामारी के कारण प्रदेश में मार्च के तीसरे हफ्ते से पर्यटन और धार्मिक गतिविधियां पूर्ण रूप से ठप हैं। बताया जा रहा है कि इससे अकेले पर्यटन व्यवसाय को करोड़ों रुपये का घाटा हो चुका है।

चारधाम यात्रा से 15 हजार करोड़ का व्यवसाय

प्रदेश में छह माह तक चलने वाली चारधाम यात्रा से लगभग 15 हजार करोड़ का कारोबार होता है। प्रदेश के पर्यटन से जुड़े व्यवसायियों ने केंद्र की ओर से पर्यटन और तीर्थाटन को छूट देने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए राहत की सांस ली है।
यह भी पढ़ें-  तो क्या उत्तराखण्ड की पूरी कैबिनेट होगी क्वारंटीन!

राज्य में ठप चल रहे पर्यटन व्यवसाय को मिलेगी ऊर्जा

उत्तराखण्ड में पर्यटन व्यवसाय से लगभग एक लाख लोग सीधे तौर पर जुड़े हुए हैं। राज्य में 20 हजार रेस्टोरेंट, 3500 होटल स्थापित हैं। इसके अलावा एक हजार से अधिक साहसिक खेलों से संबंधित गतिविधियों के व्यवसायी हैं। बंद पड़े चारधाम यात्रा व अन्य पर्यटन उद्योग शुरू होने से इस क्षेत्र को ऊर्जा मिलेगी।

पूरी है सरकार की तैयारी

शहरी विकास मंत्री एवं सरकार के प्रवक्ता मदन कौशिक ने बताया कि केंद्र सरकार द्वारा दी गई छूट का राज्य को लाभ मिलेगा। अनलॉक-1 को लेकर केंद्र द्वारा जारी गाइडलाइन का पूरे तरीके से पालन होगा। पर्यटन एवं चारधाम यात्रा को प्रारंभ करने को प्रदेश सरकार की पूरी तैयारी है।
पढें- विश्व धरोहरः  जानिए कब खुलेगी विश्व प्रसिद्ध फूलों की घाटी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here