आगामी एक जुलाई से बैंकिंग करने से पूर्व पहले यह नियम जान लें। वैश्विक महामारी कोरोना के चलते बैंकों ने अपने ग्राहकों को कई प्रकार से नियमों में छूट देकर राहत प्रदान की थी, लेकिन अब बैंकों ने पूर्व में दी इन राहतों को समाप्त करने का फैसला लिया है।

विभिन्न बैंकों के द्वारा अब अपने कई नियमों में बदलाव किए जा रहे हैं। बचत खाते से लेकर एटीएम तक के कई नियमों में बैंक बदलाव करने जा रहे हैं।

बैंकों के मुताबिक लॉकडाउन के चलते ग्राहकों को एटीएम से कैश निकालने के नियम में जो राहत दी गई थीं, वह अब एक जुलाई से खत्म हो जाएगी। पहले सरकार ने एटीएम से कैश निकालने के लिए सभी ट्रांजेक्शन शुल्क हटा लिए थे। सरकार ने ऐसा कर तीन माह के लिए एटीएम ट्रांजेक्शन शुल्क हटाकर आम लोगों को महामारी संकट के बीच यह बड़ी राहत दी थी।

सरकार ने यह छूट सिर्फ तीन माह की अवधि के लिए दी थी, जो कि चार दिनों बाद आगामी 30 जून को खत्म होने जा रही है। इसके अलावा किसी भी बैंक में बचत खाते में औसत न्यूनतम जमा धनराशि (मिनिमम बैलेंस) की अनिवार्यता को भी 30 जून तक के लिए छूट प्रदान की गई थी।

अप्रैल से जून माह के बीच बचत खाते में मिनिमम बैलेंस न होने पर भी लोगों को किसी तरह की पैनाल्टी नहीं चुकानी थी। लेकिन, अब एक जुलाई से सभी बैंक ग्राहकों को अपने खाते में मिनिमम बैलेंस रखना अनिवार्य होगा। इसके अतिरिक्त कुछ बैंक बचत खातों में वार्षिक ब्याज की दरों में भी कटौती करने जा रहे हैं जो नियम आगामी एक जुलाई से लागू किया जाएगा।

कोरोना काल में पूर्व में दी गई यह राहत समाप्त करने से जहां आम लोगों को झटका लगना तय है वहीं अब इस बदलाव से लोगों की जेब कटनी भी तय है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here