17.9 C
Dehradun
Friday, October 22, 2021
Homeहमारा उत्तराखण्डरुद्रप्रयागसात लोगों को दिया गया वर्ष 2021 का चन्द्रदीप्ति सम्मान

सात लोगों को दिया गया वर्ष 2021 का चन्द्रदीप्ति सम्मान

अगस्त्यमुनि। साहित्य जगत की सुरुचि संपन्न सकारात्मक अभिव्यक्ति की अर्द्ध वार्षिक पत्रिका चंद्रदीप्ति के छठे अंक का ऑनलाइन विमोचन मुख्य अतिथि फ्लोरिडा अमेरिका से चक्रधर सेमवाल तथा डॉ० जीत राम भट्ट सचिव हिंदी एवं संस्कृत अकादमी दिल्ली सरकार निदेशक प्राच्य विद्या प्रतिष्ठान दिल्ली सरकार व अन्य गणमान्य व्यक्तियों द्वारा दीप प्रज्वलित कर किया गया।

इस अवसर पर मनोज कुमार थापा सोशल मीडिया संपादक द्वारा गणपति वंदना, मनमोहन भट्ट समन्वय संपादक द्वारा अतिथि स्वागत किया गया। मुख्य अतिथि श्री सेमवाल ने कहा कि साहित्य साधना एक कठिन कार्य है। अत्यंत हर्ष और प्रशंसा का विषय है कि राष्ट्रीय स्तर की पत्रिका चंद्रदीप्ति का विमोचन उत्तराखंड के सुदूरवर्ती जनपद रुद्रप्रयाग से हो रहा है।

Uttarakhand Cabinet: सरकार ने युवाओं को दी भर्तियों में एक साल की छूट, जानें अन्य फैसले

कहा कि रुद्रप्रयाग जनपद प्राचीन काल से शिक्षा व साहित्य में अग्रणी रहा है। यहां पर कवि कुलगुरु कालिदास जी ने अपने काव्यों की रचना की। विमोचन व सम्मान समारोह के विशिष्ट अतिथि संस्कृत अकादमी व हिंदी अकादमी के सचिव डॉo जीतराम भट्ट ने इस उल्लेखनीय पहल पर चन्द्रदीप्ति परिवार को साधुवाद दिया। कार्यक्रम में नरेंद्र दत्त सेमवाल सचिव अगस्त्य पर्यावरण मित्र समिति, डॉ० रंग लाल यादव (फिजियोथैरेपिस्ट), हैल्पेज इण्डिया हॉस्पिटल गिंवाला (चन्द्रापुरी),
डॉ0 गीता नौटियाल राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त शिक्षिका, सुशील कुमार खंडूरी प्रवक्ता रा०इ०का० खुमेरा (ऊखीमठ),
प्रदीप पुजारी,प्र०अ०, रा०प्रा०वि० कोठेड़ा, प्रीतम सिंह बिष्ट छात्र राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय अगस्त्यमुनि, 7 वर्षीय अक्षज त्रिपाठी (जूनियर बुमराह के नाम से प्रसिद्ध क्रिकेटर) आदि को चंद्रदीप्ति सम्मान से सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर आचार्य कृष्णानंद नौटियाल, नरेंद्र दत्त सेमवाल, शम्भू प्रसाद सेमवाल, अतुल अवधिया, उदय कांत द्विवेदी (उरुग्वे अमेरिका से), चंद्रदीप्ति पत्रिका के सहसंपादक कमलेश कुमार पांडे ने अपने विचार प्रकट किए। चन्द्रदीप्ति के संरक्षक बृजमोहन चन्द्र भट्ट द्वारा सबका स्वागत और मार्गदर्शन किया गया।

चंद्रदीप्ति होगी नवोदित रचनाकारों के लिए मील का पत्थर साबित

कार्यक्रम के अंत में चंद्रदीप्ति पत्रिका के संपादक विनोद प्रकाश भट्ट द्वारा आमंत्रित अतिथियों का धन्यवाद और आभार प्रकट किया गया। उन्होंने कहा चंद्रदीप्ति पत्रिका लेखकों, साधकों व नवोदित रचनाकारों के लिए मील का पत्थर साबित होगी। लेखकों और बाल साहित्यकारों में रचनात्मकता की अभिवृद्धि के लिए पत्रिका निरंतर प्रकाशित की जा रही है। बाल साहित्यकारों के लेखों को विशेष स्थान पत्रिका में दिया जाता रहा है। पत्रिका के इस अंक में भी बाल साहित्यकरों की इक्कीस रचनाएं प्रकाशित हैं।

कार्यक्रम का संचालन रा०उ०प्रा०वि० डाँगी गुनाऊँ के नवाचारी शिक्षक हेमंत चौकियाल द्वारा किया गया। इस अवसर पर जनपद के नवाचारी विज्ञान शिक्षक शैलेंद्र सिंह राणा, देहरादून से D.R.D.O के वैज्ञानिक डीपी त्रिपाठी और एज्यूकेटिव इंजीनियर श्रीमती रेखा डंगवाल, ऑस्ट्रेलिया से आभा नवीन (जो भाभा अनुसंधान केन्द्र में बरिष्ठ वैज्ञानिक रहे हैं) आकाश रंजन पश्चिम बंगाल से, मिश्र जी आसाम से, कमल महावर कोटा राजस्थान से, पालघर महाराष्ट्र से प्रकाश द्विवेदी, शंभू प्रसाद भट्ट ‘स्नेहिल’ श्रीनगर गढ़वाल से, अतुल कुमार अवधिया लखनऊ से, सुभाष चंद्र भट्ट (अध्यक्ष रोटरी क्लब प्रबंधक एवं ब्यूरो चीफ चन्द्रदीप्ति) चंडीगढ़ से, दक्षिण अमेरिका से उदय कांत द्विवेदी, डा0 अनिरुद्ध चण्डीगढ़ से, डा0 शिवकुमार दिल्ली से, आचार्य विश्वनाथ पंचकूला हरियाणा से, देवी प्रसाद भट्ट अम्बाला से, दिनेश प्रसाद पुरोहित कोटी से, नरेश जमलोकी प्रधानाचार्य रा०इ०का० रूद्रप्रयाग, नैनीताल से एडवोकेट जयवर्धन काण्डपाल, देहरादून से वरिष्ठ साहित्यकार श्रीमती बीना बेंजवाल, बाल साहित्यकार प्रांजल भट्ट, देहरादून से रोहणी, रूद्रप्रयाग से प्रदीप सेमवाल मौजूद रहे।

इसके अलावा अगस्त्यमुनि से श्रीमती ललिता रौतेला (बाल मंच संपादक चंद्रदीप्ति), बसुकेदार से श्री बुद्धि बल्लभ भट्ट, प्रमोद वशिष्ट पर्वत प्रेमी, मनोज भट्ट कालीमठ से, अंजू बमोला श्रीनगर से, श्रीनगर से अंजू बमोला और सरोज रावत, श्यामनंदन भट्ट अगस्त्यमुनि, गोवर्धन सेमवाल जवाहर नगर, त्रिलोचन प्रसाद सेमवाल देहरादून, चंद्रमौलेश्वर सेमवाल (ब्यूरो चीफ देहरादून चंद्रदीप्ति), कैलाश चंद्र पुरोहित (ब्यूरो चीफ चंद्रदीप्ति मुंबई), रमेश मैठाणी रूद्रप्रयाग, नागेन्द्र सिंह नेगी रूद्रप्रयाग, दिल्ली से प्रशांत सेमवाल, आशा खंण्डूड़ी और इन्दु गैरोला सहित कई साहित्य प्रेमी और समाजसेवियों और सुधी जनों की उपस्थिति ने विमोचन और सम्मान समारोह को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का बना दिया।

RELATED ARTICLES

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments

error: Content is protected !!