वैश्विक महामारी कोरोना के टीकाकरण के पंजीकरण को लेकर बेहद सावधान रहने की जरूरत है। अगर आपके मोबाइल पर कोरोना के टीकाकरण का पंजीकरण कराने को लेकर कोई लिंक आए तो उसे हल्के में न लें। इस लिंक को क्लिक करते ही साइबर ठग आपके बैंक खाते को खाली कर सकते हैं। उत्तराखंड में पुलिस की ओर से इस संबंध में एडवाइजरी जारी की गई है।

विदित हो कि देशभर में कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण का अभियान शुरू हो गया है। देश के सभी राज्यों में वैक्सीन की पहली खेप भी पहुंच गई है। इसे लेकर साइबर ठग भी सक्रिय हो गए हैं। साइबर ठग लोगों के मोबाइल पर लिंक भेजकर या पंजीकरण के नाम पर ठगी करने में जुट गए हैं।

देशभर में कई जगहों से ऐसी शिकायतें पुलिस के पास पहुंच रही हैं। इसे लेकर प्रदेश में हरिद्वार जिले की पुलिस भी सतर्क हो गई है। टीकाकरण के नाम पर लोगों से ठगी न हो, इसे लेकर पुलिस की ओर से एडवाइजरी जारी की गई है। इसके तहत लोगों से पुलिस अपील कर रही है कि ऐसे किसी मैसेज या लिंक पर विश्वास न करें। मैसेज आए तो पहले खुद उसे ठीक से परख लें।

पुलिस द्वारा जारी की गई एडवाइजरी

– कोरोना वैक्सीन के लिए आए किसी भी फोन कॉल को अटेंड न करें।
– पंजीकरण के लिए आधार नंबर या पर्सनल जानकारी किसी को न दें।
– आपके मोबाइल पर अगर ओटीपी आता है तो उस पर भरोसा ना करें।
– कोरोना से संबंधित कोई मैसेज अनजान नंबर से आने पर दरकिनार करें।
– किसी भी तरीके का वैक्सीन से जुड़ा लिंक या जानकारी पर क्लिक न करें।
– वैक्सीन के नाम पर आने वाले अज्ञात व्यक्ति के फोन पर भरोसा ना करें।

एसपी देहात हरिद्वार एस0के0 सिंह ने बताया कि साइबर ठग कोरोना वैक्सीन उपलब्ध कराने या वैक्सीन के लिए पंजीकरण के नाम पर लोगों के खातों में सेंध लगा सकते हैं। इससे बचने के लिए जागरूक होना जरूरी है। ऐसे किसी भी लिंक पर क्लिक करने या कॉल अटेंड करने से बचना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here