देश में वर्तमान में कृषि कानूनों के विरोध के चलते किसान आंदोलित हैं। किसान आंदोलन के समर्थन में उत्तराखंड के इस गांव में अब भाजपा नेताओं का प्रवेश निषेध कर दिया गया है। बकायदा इसके लिए गांव के बाहर बोर्ड लगाया गया है।

प्रदेश के ऊधमसिंह नगर जिले के अंतर्गत जसपुर की ग्राम पंचायत मनोरथपुर के ग्राम मलपुरी के निवासियों ने कृषि कानूनों के विरोध के चलते भाजपा नेताओं, कार्यकर्ताओं को किसान विरोधी बताकर उनका प्रवेश ग्राम में निषेध कर दिया है।

ग्राम मलपुरी में ग्राम वासियों ने ग्राम के बाहर विद्युत पोलों पर बोर्ड लगाकर भाजपा कार्यकर्ताओं, नेताओं से ग्राम में नहीं आने का अनुरोध किया है। कहा की यदि वह उनके ग्राम में आते हैं तो उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी ग्रामवासियों की नहीं है। वह स्वयं अपनी सुरक्षा के जिम्मेदार होंगे।

ग्रामीणों ने पंचायत कर कहा की केंद्र में भाजपा की सरकार है। किसान संगठनों की मांग पर केंद्र सरकार किसान विरोधी कृषि कानूनों को वापस नहीं कर रही है। अब तक 70 से अधिक किसान अपनी शहादत दे चुके हैं। इससे ग्रामीण भाजपा से आक्रोशित हैं। पंचायत में पूर्व प्रधान सुबा सिंह, अवतार सिंह, नवदीप सिंह, अर्जुन सिंह, राजू सिंह, जितेंद्र सिंह, परमजीत सिंह, मनिंदर सिंह आदि उपस्थित थे।

वहीं हरिद्वार में महानगर यूथ कांग्रेस ने किसान आंदोलन के समर्थन में दिल्ली में देश का नक्शा तैयार करने के लिए हरिद्वार में एक मुट्ठी मिट्टी एकत्र की। इस मिट्टी से दिल्ली में नक्शा तैयार किया जाएगा। यूथ कांग्रेस ‘एक मुट्ठी मिट्टी शहीदों के नाम’ अभियान के बाद यह मिट्टी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेजेगी। महानगर युवा कांग्रेस के अध्यक्ष आकाश भाटी के नेतृत्व में ‘एक मुट्ठी मिट्टी शहीदों के नाम’ अभियान शुरू किया गया।

कहा कि देश का किसान सड़कों पर है। 45 दिन के अंदर कई किसान शहीद हो चुके हैं। जबकि प्रधानमंत्री कॉरपोरेट घरानों के दबाव में भारी विरोध और शहादत के बाद भी नए कृषि कानून को वापस लेने के लिए तैयार नहीं है। कहा कि कांग्रेस देश का नक्शा तैयार करने के लिए हरिद्वार से मिट्टी भेज रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here