हरिद्वार। वैश्विक महामारी कोरोना के बढ़ते प्रकोप के चलते स्थानीय पुलिस-प्रशासन ने सावन की महाशिवरात्रि पर मंदिरों में जलाभिषेक पर प्रतिबंध लगाते हुए शहर में धारा 144 लागू कर दी है। अभी स्थानीय श्रद्धालु भी शिवालयों में नहीं जा पाएंगे और न ही यहां स्थित गंगा घाटों पर स्नान ही कर पाएंगे। पहले से सील राज्य के बार्डर पर पुलिस और पीएसी को अतिरिक्त सतर्कता बरतने को कहा है।

मालूम हो कि रविवार को आज सोमवती अमावस्या पर पहली बार हरकी पैड़ी पर स्थानीय लोग एवं श्रद्धालु गंगा में डूबकी नहीं मार पाएंगे। कोरोना के चलते सरकार ने सामूहिक स्नान पर रोक लगाई है। इसी कड़ी में बीते शनिवार को सूबे के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रदेश वासियों से सोमवती अमावस्या पर हरिद्वार में गंगा स्नान की जगह घर पर ही पवित्र भाव से स्नान करने की अपील की थी।

बता दें कि जिला प्रशासन ने पूर्व में ही सोमवार को पड़ने वाले सोमवती अमावस्या पर गंगा स्नान पर रोक लगा दी है। बाहरी राज्यों के साथ ही स्थानीय श्रद्धालुओं के लिए भी स्नान प्रतिबंधित किया गया है। अब सावन की महाशिवरात्रि पर आम लोगों के लिए भी मंदिरों में होने वाले जलाभिषेक पर रोक लगाई गई है।

कोई भी श्रद्धालु शिवालयों तक न पहुंचे इसके लिए सभी शिवालयों के बाहर पुलिस बल तैनात किया गया है। शिवालयों और अन्य मंदिरों में सिर्फ पुजारी ही पूूजा-अर्चना कर सकेंगे। एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय ने बताया कि जिले में रविवार को लॉकडाउन के चलते जलाभिषेक को प्रतिबंधित किया गया है। जलाभिषेक का मुहूर्त कल सोमवार सुबह तक है, लेकिन सोमवार को भी जलाभिषेक की अनुमति नहीं होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here