यदि आपका बच्चा इनोवेटिव है तो उसका एक आइडिया दिला सकता है दस हजार रूपए का पुरस्कार। डिपार्टमेंट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी और नेशनल इनोवेशन फाउंडेशन के इंस्पायर अवार्ड मानक के लिए आवेदन प्रारंभ हो गए हैं। इसमें कक्षा 6 से 10 तक के बच्चे या फिर 10 वर्ष से 15 वर्ष तक के बच्चे प्रतिभाग कर सकते हैं।

बता दें कि सरकार की ओर से चलाई जा रही इस योजना के तहत बच्चों से उनका आइडिया उनके स्कूल के माध्यम से ऑनलाइन मांगा जाता है। इनमें से चुने हुए आइडिया को राष्ट्रीय स्तर पर भेजा जाता है। राष्ट्रीय स्तर पर देशभर से एक लाख आइडिया का चयन किया जाता है। आइडिया देने वाले बच्चे के उसको मॉडल रूप में तैयार करने के लिए 10 हजार रुपये सीधे उनके खाते में भेजे जाते हैं।

नेशनल इनोवेशन फाउंडेशन के रिसर्च एसोसिएशन डॉ. नवनीत कुमार ने बताया कि मॉडल तैयार करने के बाद सबसे पहले जिला स्तर पर प्रतियोगिता होगी। इसमें से हर जिले से दस-दस प्रतिशत मॉडल राज्य स्तर की प्रतियोगिता के लिए चुने जाएंगे। यहां से दस प्रतिशत मॉडल राष्ट्रीय स्तर के लिए चुने जाते हैं। इसके बाद राष्ट्रीय स्तर पर प्रतियोगिता होती है। जिसमें से शीर्ष 60 मॉडल चुने जाएंगे।

ऐसे सभी छात्रों को सात दिन के लिए जापान में एक कार्यक्रम में शामिल होने का मौका दिया जाता है। पिछले वर्ष देशभर से एक लाख के बजाय 42 हजार आइडिया का चयन किया गया था, जिनमें से 2422 आइडिया उत्तराखंड के बच्चों के थे। इनमें से राष्ट्रीय स्तर के लिए 22 छात्र चुने गए थे। इनमें से भी जो 60 मॉडल चुने गए थे, उनमें भी उत्तराखंड के तीन बच्चे शामिल थे, जिन्हें जापान जाने का मौका मिला था।

चुने गए मॉडल में सुधार की गुंजाइश को देखते हुए मेंटरशिप कार्यक्रम राज्य स्तर पर किया जाता है। इसमें आईआईटी जैसे संस्थानों के विशेषज्ञ शामिल होते हैं। इन विशेषज्ञों की सलाह पर मॉडल सुधार के लिए प्रति छात्र 50-50 हजार रुपये अलग से दिए जाते हैं। नेशनल इनोवेशन फाउंडेशन के राज्य समन्वयक डॉ. आर के रवि कुमार ने बताया कि इस प्रतियोगिता में किसी भी सरकारी या निजी स्कूल के कक्षा छह से 10वीं तक के छात्र या फिर ऐसे छात्र, जिनकी आयु 10 से 15 वर्ष के बीच हो, हिस्सा ले सकते हैं। वह अपना आइडिया अपने स्कूल के माध्यम से 30 सितंबर तक इंस्पायर अवार्ड मानक की वेबसाइट पर रजिस्टर्ड करा लें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here