नई टिहरी। ऋषिकेश-धरासू राजमार्ग पर निर्माणाधीन चारधाम परियोजना के तहत सीमा सड़क संगठन ने जिले के चंबा शहर के नीचे सुरंग निर्माण का कार्य सफलतापूर्वक पूर्ण कर लिया।

केंद्र सरकार के सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने टनल के दोनों छोर आर-पार होने पर वीडियो कॉन्फेंसिंग के जरिए सीमा सड़क संगठन के सभी अधिकारी एवं कार्मिकों को शुभकामनाएं दी।

यह भी पढ़ें-  प्रदेश में 9 वर्षीय एक बालक कोरोना संक्रमित, संख्या पहुंची 401

वीडियो कॉन्फेंसिंग के दौरान श्री गडकरी ने कहा कि आॅल वेदर रोड़ के बनने से देवभूमि उत्तराखण्ड में देश-विदेश के पर्यटकों का आवागमन सुविधापूर्ण ढंग से हो पाएगा, जिससे प्रदेश के लोगों को रोजगार की दिशा में मदद मिल सकेगी।

उन्होंने कहा कि इस परियोजना के पूर्ण होने से उत्तराखण्ड में चारधाम यात्रा भी सुरक्षित एवं सुगम हो सकेगी।

चुनौतीपूर्ण भरा काम था इस सुरंग का निर्माण

वैश्विक महामारी कोरोना की कठिन चुनौतियों एवं देशव्यापी लाॅकडाउन के कारण प्रतिबंधों के बीच इस सुरंग के उत्तर और दक्षिण छोर से मिलाने का यह कार्य पूर्ण किया गया। कमजोर भू-विज्ञान, भूमि अधिग्रहण, लगातार जल निकासी एवं सुरंग के ऊपर घना आबादी क्षेत्र होने के चलते सिंक होने की संभावना के दृष्टिगत इस सुरंग का निर्माण कम चुनौतीपूर्ण नहीं था।

आस्ट्रेलियाई तकनीक आई काम

इस सुरंग के उत्तर छोर पर बीआरओ ने जनवरी 2019 में काम शुरू किया था, लेकिन दक्षिण छोर पर भूमि मुआवजा एवं भवनों की सुरक्षा के मसलों को निपटाने के बाद अक्तूबर 2019 के बाद काम शुरू हो सका। बताया गया है कि नवीनतम आस्ट्रेलियाई तकनीक के जरिए चंबा सुरंग का निर्माण किया गया है।

अक्तूबर तक यातायात चालू करवाने का लक्ष्य

इस सुरंग का निर्माण दिन रात की शिफ्ट में कार्य करवाने के बाद पूरा किया जा सका। इसके निर्माण में मै0 भारत कंस्ट्रक्शन कंपनी देहरादून द्वारा उपलब्ध कराई गई अत्याधुनिक तकनीक और मशीनों का उपयोग भी किया गया। बताया गया है कि यह सुरंग पूरा होने की निर्धारित समय से लगभग तीन माह पूर्व अक्तूबर 2020 तक आवागमन के लिए तैयार हो जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here