अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) प्रवेश परीक्षा में 33 हजार से भी ज्यादा उम्मीदवारों ने भाग लिया। AIIMS ने 11 जून को विभिन्न कोर्स के लिए प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया था। आधिकारिक जानकारी के मुताबिक कुल मिलाकर 33 हजार 491 उम्मीदवारों ने AIIMS प्रवेश परीक्षा में भाग लिया। यह परीक्षा MD/MS, MDS, DM, MCh, B.Sc. post-basic Nursing, M.Sc. Nursing और fellowship कोर्स में एडमिशन के लिए आयोजित की गयी थी।

कोविड-19 की सभी गाइडलाइन का पालन किया गया

AIIMS प्रबंधन ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए बताया कि केंद्रीय सरकार और स्वास्थ मंत्रालय द्वारा जारी दिशा निर्देशों के अनुसार ही प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया गया। शारीरिक दूरी, तापमान जांच, मास्क, सैनीटाइज़र का इस्तेमाल आदि निर्देशों का भी सभी परीक्षा केंद्रों में पालन किया गया।

परीक्षा केंद्रों की संख्या भी बढ़ाई गयी

 पहले AIIMS प्रवेश परीक्षा केवल 60 केंद्रों पर करना ही निश्चित हुआ था। बाद में प्रबंधन ने परीक्षा केंद्रों की गिनती बढ़ाने का फैसला लिया और कुल मिलाकर 157 केंद्रों पर यह प्रवेश परीक्षा संपन्न हुयी। AIIMS परीक्षा के लिए हर राज्य में कम से कम एक परीक्षा केंद्र बनाया गया था। AIIMS प्रबंधन की तरफ से जारी विज्ञप्ति के द्वारा ये भी बताया गया है कि 97 प्रतिशत से ज्यादा अभ्यर्थियों को उनकी पसंद का परीक्षा केंद्र ही आवंटित किया गया है।

शारीरिक दूरी बनाये रखने को लेकर परीक्षा केंद्रों में ख़ास इंतजाम करे गए थे। दो अभ्यर्थियों के बीच में दूरी बनाकर उन्हें सीट दी गयी थी। परीक्षा के समय में भी बदलाव किया गया और परीक्षा सुबह 9 बजे की बजाय दोपहर 1 बजे से करवाई गयी ताकि अभ्यर्थी परीक्षा अपने केंद्र में आसानी से पहुंच सकें।

दिल्ली उच्च न्यायालय में परीक्षा स्थगित करने को लेकर याचिका

कोविड के बढ़ते खतरे के बीच AIIMS प्रवेश परीक्षा को स्थगित करने के लिए दिल्ली उच्च न्यायालय में भी एक याचिका डाली गयी थी। हालांकि न्यायालय ने यह कह कर याचिका खारिज कर दी कि 40 हजार से ज्यादा अभ्यर्थियों ने परीक्षा के लिए आवेदन किया है और चूंकि परीक्षा के आयोजन को लेकर सभी प्रकार की तैयारी कर ली गयी हैं तो उससे स्थगित नहीं किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here