भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर मुंबई और यूसर्क की ओर से यहां राजधानी देहरादून के राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय मालदेवता में राज्य का पहला रेडान सेंटर स्थापित किया गया है। उत्तराखंड के साथ ही उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश समेत आसपास के क्षेत्रों में भूकंप के पूर्वानुमान की अब और अधिक सटीक जानकारी मिलेगी।

यूसर्क के वैज्ञानिक डा0 ओपी नौटियाल ने बताया कि यूसर्क की ओर से इस शोध परियोजना पर कार्य किया जा रहा है। भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर की ओर से पूरे देश में 300 रेडान सेंटर स्थापित किए जा रहे हैैं। इस परियोजना के पूरा होने के बाद भूकंप के पूर्वानुमान की सटीक जानकारी मिलेगी।

वैज्ञानिक डॉ. ओपी नौटियाल के मुताबिक रेडान सेंटर की स्थापना भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर के वैज्ञानिक डॉ. मनीष जोशी और डॉ. एसी नौटियाल की देखरेख में की गई।

दूसरी ओर, राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय मालदेवता रायपुर के प्राचार्य डॉ. सतपाल सिंह साहनी का कहना है कि भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर और यूसर्क की ओर से रेडान सेंटर की स्थापना से भूकंप के लिहाज से संवेदनशील उत्तराखंड जैसे राज्यों को पूर्वानुमान लगाने में लाभ मिलेगा। बताया कि इससे भूकंप के क्षेत्र में शोध करने वाले शोधार्थियों को भी सहायता मिलेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here